Sunday, 12 July 2015

Sexy Bahan Ki Chudai - Hindi brother sister sex kahani

Hello dosto sab ko meri taraf se namaskar. Ye meri sachchi kahani hain jo main aap ko batana chahta hu. Ye us samay ki baat hai jab main apni sister ki shadi me gaaw gaya hua tha. Meri cousin sister mujh se 3 saal chhoti hain aur us samay main 24 saal ka tha aur wo 21 ki. Uski shadi tay ho chuki thi aur main shadi ke kuch 20 din pahle waha gaya hua tha.


Maine socha ki kuch madad ho jaayengi mere aane se islie main jaldi aa gaya tha. Main shadi ki taiyari me lag gaya tha jaise ki saman le ke aana, invitation dena. Meri aunty ko maike me invitation dene the islie wo do din ke lie apne maike gayi hui thi. Us din tak main nahi socha tha ki main apni cousin ki chudai kar dunga lekin sab sanjog ki baat hai.


Mujhe pata nahi tha ki cousin ki shadi kiske saath ho rahi hai. Lekin us dopahar ko main ek dost ko kahte suna ki itni achhi ladki ko budhe ke haatho de rahe hain. Fir maine puchha to usne bataya ki meri cousin ki shaadi kisi 34 saal ke ladke se ho rahi hain. Main jab ghar aaya to meri cousin (Uska naam Guddi hain) ne puchha ki bhaiya kya khaoge. Maine kaha jo tumhe banana ho main khaa lunga.
Guddi Ki Chudai Ka Man Ho Raha Tha


Maine khaana khaaya aur dopahar ki garmi se bachne ke lie main ek kamre me jaa ke so gaya. Guddi bhi usi kamre me dusre bed me so gayi. Maine dekha ki usne safed bra pahni thi jo uske dark rang ke frock me aaram se dikh rahi thi. Mere lund me ek chudai ki lahar daudi. Jab se maine suna ki Guddi ki jawani kisi budhe ke hawale honi hain to main jaise uspe taras kha raha tha.


Jab meri nind khuli to maine dekha ki kamre ke bahar uncle ya kisi aur ki koi awaz nahi thi. Maine socha ki wo log shayad bahar gaye the. Main bed se utha aur meri najar Guddi pe padi. Uska dress thoda utha hua tha aur uska safed stomach bahar dikh raha tha. Ek pal ke lie to main pagal sa ho gaya. Guddi ekdam fair hain aur uska badan bhi kaafi mast figure wala hain. Meri najar ab uski chunchiyo pe gayi jo kaafi badi aur gol hain. Ek pal ke lie jaise mera dimag kaam karna hi bandh ho gaya tha. Guddi ki chudai kar dene ka khayal jaise dimag se hat hi nahi raha tha. Kuch soch ke main usek bed pe jaa baitha aur dhire se uske pet pe apne haath ko ghumane laga. Guddi ki aankhe khul gai aur main thoda dar gaya.


Usne meri aur dekha aur boli, “Are bhaiya kya hua?”


Maine kaha, “Kuch nahi Guddi bas tere sar aur pet pe hath ferne ka man hua. Tu mujhe yah bata ki tune shadi ke lie haa kyu kaha. Tujhe pata hai na ki uski umar kya hain…!”


Itna kahte hi Guddi mujhse lipat gai aur uskii aankho se aansu nikal pade. Usne aansu ko rokne ki koshish karte hue kaha, “Bhaiya mujhe pata hain lekin meri aur bhi 3 bahne hain. Sab ke lje mom dad ko kuch bachana hain islie maine apni khushi ko maar li….!”


Maine Guddi ko apne badan se dur kiya aur kaha, “Lekin yah to sharasar pagalpan hain na. Tujhe bhi apni khushiya lene ka right hain. Tujhe bhi arman honge kit era koi rajkumar jaisa dulha ho…!”


Guddi ab to aur bhi rone lagi aur boli, “Bas ab kuch nahi sochna hai bhaiya. Ek raat ko maine mom dad ko baat karte suna tha ki main hi manhush hu ki mere baad ek ke baad ek 3 ladkiya aur paida hui hai is ghar me.”


Main apne haatho ki Guddi ke baalo me ghumaya aur use kaha, “Dekh Guddi tujhe kuch bhi madad ki jarurat ho to mujhe batana. Agar tu kahe to main tujhe yah shadi karne se bhi rok sakta hu. Bas teri marji ki baat hain. Roj roj chudwane se achha hain ki ekbaar chudai ho jaaye.”


Guddi ne iske baad to jaise ki top ka gola daaga, “Bhaiya agar aap mujhe aaj chod dete to aap ka bada aheshan hota. Main aap se ek baar trupt ho ke chudna chahti hu. Mera koi boyfriend nahi tha aur hota to bhi kuch nahi kar pati main shayad. Kya aap mujhe apni rakhel bana sakte ho. Pata nahi wo budha mujhe kya de paayega lekin kya main aap se yonsukh ki ummid rakh sakti hun?”
Guddi Bhi Iske Lie Ready Thi


Mere lie to position aisi thi ki chudai karni thi aur chut chal ke aai. Main Guddi ko gale se lagaya aur use kaha, “Main apni bahan ke lie kuch bhi kar sakta hu. Tu jo kahengi main wo karne ke lie taiyaar hu dear.”


Itna sunte hi Guddi ne mere hontho ke upar pane honth rakh diye aur wo mujeh jor se chumne lagi. Maine apne haath Guddi ke bade boobs ke upar rakh diye. Gudddi ekdam ready thi shayd chudai ke lie kyunki uske boobs me ek akdan thi jo sirf uttejna ke karan aati hain. Dusre hi minute uska haath mere lund pet ha jise wo daba rahi thi. Guddi ne to jaise ki chudai ki train ka engine full speed me chalu kar diya tha aur mere lie jaise ki yah ek sapne ka bhaag tha. Maine apne hontho ko Guddi ke hontho se hataya aur niche hath kar ke uske kapde utaarne laga. Guddi ne mera hath bataya aur wo apne kapde utaar ke nangi ho gai. Uski safed bra me uske badi chunchiya sach me kayamat lag rahi thi. Maine uski chuchi pakdi aur bra ke hook ko pichhe se khol dia. Bra ek zatke me niche aa giri aur chudai ke lie ready chunchiya jaise ki latakne lagi!


Guddi ke chuncho ko dekh ke jaise mere tan badan me ek aag lag gai. Uske chuncho me ek azab sa khinchaw tha aur main ruk nahi paaya. Maine apna muh khola aur sidhe un chuncho ko apne muh me le liya. Guddi ne ek halki si moan ki aur usne mere maathe ko apni nipple ke upar daba dia. Gore rang ki boobs ke upar yah dark color ki nipples bilkul waise hi thi jaise ki nazar naa lage uske lie lagaya hua kajal ka tika. Guddi ne apne chunche haath me pakde aur unhe upar ki aur utha diya taki main unhe aaram se apne muh me le saku. Guddi ki sanse badhne lagi thi aur apni bhi kuch wahi kaifiyat thi.
Chuncho Ko Dabane Ki Maja


Guddi ke muh se ab siski pe siski nikal rahi thi jab main apni jibh ko uske chuncho ke upar raga raha tha. Main apni jaban ko nipples ke upar niche kar raha tha aur yah kisi bhi ladki ke lie bahut hi uttejit karne wali chij hoti hain. Aur Guddi bhi sach me kafi uttejit ho gai aisa karne se.Wo sidhe hi niche baith gai aur mere lund ko bahar nikaal liya. Main use kuch kahu uske pahle to usne sidha apna muh khol ke lund ko andar kar liya. Chuncho ki chusai ka badla wo mere lund ko apne muh me chala ke de rahi thi. Wo ek haath se laude ko masal rahi thi aur dusre haath se usne meri zaangh pakad ke rakhi thi. Mera lund uske muh me first class maje le raha tha abhi. Ab maine dheere se apni gaand ko aage peeche karna chalu kar diya. Aisa karte hi mera lauda uske muh ke andar bahar hone laga aur Guddi aur bhi jor jor se use chusne lagi. Guddi ne kuch 5 minute tak aise hi lund ke ek ek hisse ko apne muh se bhigoya aur maine ab lund ko uske muh se bahar nikaal liya. Agar aur ek minut bhi andar rakhta to mera lund kali ho jaata.


Guddi ab wapas khadi hui aur maine haath fir uske chuncho pe daala. Ab maine use wahi niche lita diya. Guddi ne apni taange faila di aur uski sexy chut mere saamne the. Main niche baitha aur ek ungli ko muh me daal ke uske upar mast thunk laga dia. Guddi ne apni taange aur failai aur use laga ki main uski chut me apna lund daalunga. Lekin maine lund se pahle ungli ka maja lena chaha islie maine fat se apni chikni hui ungli andar daali. Guddi ke muh se aah nikal pada aur usne apni taange aur bhi faila daali. Maine ungli ko uski chut ke andar chalana chalu kar diya aur dusre haath se maine fir se chuncho ka kabja liya. Main chuncho ko jor jor se dabane laga aur dusre haath ki ungli wahi chut me andar bahar ho rahi thi.


Guddi ki aankhe bandh ho rahi thi aur uski saane aur bhi tej hone lagi thi. Wo apni gaand utha ke jor jor se hil rahi thi. Aisa karne se uski chut meri ungli ke saath mast ghis rahi thi aur ham dono ko hi maja raha tha. Ab maine chuncho ko chhod diya aur sirf chut me magn hua. Maine ek haath se uski kamar ko tham liya aur ungli ko aur bhi jor jor se chut ke andar bahar karne laga. Ab Guddi se raha nahi gaya aur wo boli, “Are bhaiya ab mujh se raha nahi jaa raha hai. Itna bhi naa tadpao mujh, apna lund daal do meri chut ke andar please….! Jaldi karo bhaiya chod do mujhe abhi ke abhi….!”
Guddi Ne Lund Le Liya


Ab meri bhi ichha ho chali thi ki main Guddi ki chut ki chatni bana hi du. Maine apne laude ko hath me liya aur chut ke upar rakh diya. Guddi ne apne hath se mere lund ko uske ghusne ka thikana bataya. Jab mujhe chut ke chhed ki garmi apne lund pe mahsus hui maine fat se ek zatka de diya. Guddi ke muh se aah nikal padi aur uski aankhe bandh ho gai, mera lund aadhe se bhi jyada uski chut me ghus jo gaya tha. Maine ek lambi saans li aur aur ke zatka de diya. Ab ki mera lund pura uski chut me ghus chukka tha. Guddi ne apni taange thodi aur faila di. Maine Guddi ke chuncho pe hath rakh diya aur apni gaand ko aage pichhe karne laga. Aisa karne se mera lund uski chut ke andar bahar hone laga. Guddi ko mere lund se adjust hone me 2 minute jitna samay lag hi gaya.


2 minutes ke baad uski chaudi gaand bhi hawa me uchhal rahi thi. Gaand ko hawa me utha utha ke wo mere lund ko apni chut me chala rahi thi. Aur jab wo upar uchhal ke wapas niche hoti thi to uske chuncho me bhi yah cheez dikh rahi thi. Maine bhi uski kamar ke upar hath rakh ke apne lund ke zatko ko badha diya. Guddi ke muh se aah aaaaaa aahhhh oh oh oh ki awaje aa rahi thi aur wo jor jor se apni gaand ko gati de rahi thi.


Meri halat bhi kharab thi aur main bhi use utne hi jor jor se chodne ki koshish me tha. Kuch 15 minute se jyada hi ho chuki thi chudai aur mera lund chut ke tal me jaa ke kitni baar bahar aaya tha. Aur tabhi mujhe laga ki bas ho gai hain meri ab. Lund ke muh se malai ki shakal me paani nikala jo sidhe Guddi ki chut me hi khali hua. Guddi ne apni chut ko tight kar ke is mahngi malai ko chut ke andar hi bhar liya…! Kuch der me hi hamne apne kapde pahan liye aur main kamre se bahar nikal gaya.


Guddi ki shaadi ko to kaafi time ho gaya hain lekin aaj bhi main khushi se kah sakta hu ki uska pahla bachha to mere lund se hi paida hua hain….!

Saturday, 11 July 2015

Sister K Sath Sex Sahi Hai Ya Ghalat ?

Baat aaj se 7 saal pehle ki hai us waqt meri age 18 years thi. Meri mausi ki ladki mere ghar rehne aai thi. uski umar 19 saal ki thi. Aur naam Sonam tha. Badi chanchal thi woh, use mujshe bahut lagao tha. mera poora khyal rakti thi.

Mere nazar mein woh meri sister hi thi. aur main usse apni sari batein share karta tha, girfriend ki bhi (means kajal ki). Ek raat main 10 baje ghar par aya to dekha ki woh mera intizar kar rahi thi. Meri badi sister ne mujhe bataya ki usne khana nahi khaya hai aur mere saath khana khayegi. Sonam aur main kichin mein gaye aur usne khana garam kiya aur hum saath saath khane lage. Khana Khate khate usne mujshe baat ki.

Sonam - bhaijaan aap mujhe kya samajhte hai?
me - tum meri bahin ho.
yeh sunkar uska chehra udas ho gaya. maine phir poocha
me - tumne ye sawal kyo kiya?
sonam - main aapki kuch aur nahi lagti?
me - waise to tum meri sister ho lekin hum bahut acche dost hai.
sonam - dost hai na? (khushi se)

Me - ya hum dost hai kyoki maine tumko kajal ke barein mein sab bataya hai (kajam meri girfriend) jo maine badi sister tak ko bhi nahi bataya. isi wajah se hum best friend hai.Woh bahut khush hui aur hamne khana complete kiya. Aur room me aa gaye. Mere room me ek double bad tha jisme main aur meri badi sister sote the but aaj woh thi isliye didi ne apne aur Sonam ke bistar niche laga liye the.Meri didi so chuki thi. Aur Sonam mujse baat karne ke liye mere bed par aa gayee. Sardi ka time tha then Woh meri razai ke andar aa gayee.Hum dono se bahut saari batein ki. Fir usne Kajal ki baat ched di.

Sonam - aap kajal ko chahte ho
me - bahut zyada
sonam - kyo?
me - kyo ka kya matlab bas chahta hoon
sonam - aisa usme kya hai?
me - main nahi janta
sonam - aap logon ka rishta kis had tak hai
me - matlab kya hai tumhara?
sonam - maine poocha aapke aur kajal ke beech jismani rishta kahan tak hai?

Main hichkichaya aur use dekhne laga. Woh muskura rahi thi. Main chup raha. Raat ka 01:00 baj raha tha. Sardi badhti ja rahi thi.
Sonam - apne hi to kaha tha ki hum dost hai to dost ko to bata sakte hi ho
maine thodi der socha ki kya jawab doon. fir kaha
me - humne waisa kaam kabhi nahi kiya (main saaf bolna nahi chahta tha)
sonam - to fir kaisa kaam kiya?
me - are yaar jo normally hota hai bas wahi kiya (kiss, etc.)

Woh Muskurane lagi aur sawal karne lagi aur main jawab deta gaya. Maine mehsoos kiya ki uska leg mere leg se touch hai to maine apne leg ko alag kiya. usne thodi der baad fir se apne leg ko mere leg se touch kiya. maine phir hataya. To fir usne apne leg ko seedhe mere leg ke upar chadha diya. Us waqt mujhe laga ki uske dil me kuch galat chal raha hai then main razai se bahar let gaya. Thodi der to woh kuch nahi boli then kaha

Sonam - aap bahar kyo chale gaye. andar aiye sardi lag jayegi
me - rehne do main yahi theek hoon.
sonam - aap aise nahi manenge
Yeh keh kar woh mere kareeb aayee aur mere badan se lipat gayi aur razai odha di. Main usse alag hua aur doori banakar let gaya. Ab hum baat nahi kar rahe the lekin uske badan ki garmi ne mere andar aag laga di thi magar main kisi tarah khud ko kaboo kiye raha. Sonam boli bhaijaan kya hua maine kaha ki mere sir me dard hai to boli mere kandhe par sir rakh lo main daba deti hoon. maine uske kandhe par sar rakha aur woh dabane lagi.

Woh samajh gai thi ki ab main toot raha hoon then usne mera chehra apnee neck se laga diya. Uske neck par hoth lagte hi main toot gaya aur usi mein kho gaya aur tezi se uske neck par hoth ragadne laga. Sonam ne zor se saans khichi aur mere baloin mein finger chalane lagi.Usne mera chehra apne dono hathon me hold kiya aur itne pyar se mujhe dekha ki maine hosh kho diya aur uske hoton ko apne hoton me daba liya woh bhi kahan chodne wali thi then humdono ne 10-15 minut tak lip kiss kiye.

Maine hoton ko choda to dekha ki uske boobs kurte ke bahar a rahe the. Main Exited ho gaya. Bilkul white aur untouched boobs the uske, mujhse raha nahi gaya to maine dono boobs ko mutthi me daba liya aur apne chehre ko dono ke beech rakhkar zoron se kiss karne laga. Woh pagal si hui ja rahi thi aur tez tez siskiya le rahi thi. Fir main uske nipple ko kurte ke upar se hi kaatne laga, use dard ho raha tha magar mana nahi kar rahi thi. Ab mujhe poora relief chaiye tha kiyoki mera land bahut pareshan tha then maine uske leg failaye aur salwar ke upar se hi choot ko mutthi me dabane laga, uski salwar gili thi.

Main uske upar aa gaya aur apne land ko choot ke upar rakhkar ragadne laga. Woh bahut pareshan thi aur baar baar I love you sonu keh rahi thi. Maine Salwar utarni chahi to usne mana kiya then maine uske kurte ke andar haath daal kar bra ko upar kiya aur nipple ko marodne laga. Tabhi jaise use hosh aaya ho aur woh mana karne lagi main nahi maana to woh boli plz main isse zyada aur kuch nahi chahti. Maine kafi samjhaya but woh nahi mani aur mere paas se uthkar didi ke karib let gaye.

Didi ki wajah se main uske paas nahi ja paya. Sex ki zyadti aur relief na milne ki wajah se mere sir mein tez pain tha, main samajh nahi pa raha tha ki kya karu. Main leta raha aur gusse me Masterbeat bhi nahi kiya. Karib 1½ hours ke baad mujhe neend aayee tab subha ka 5:30 baj raha tha.Main 10:00 Am par utha, usi ne uthaya mujhe, main gusse me usse baat nahi kar raha tha, ghar par sab the then usne bhi baat karne ki aur koshish nahi ki. Jab main ghar se nikalne laga to woh mere paas aye aur mere gale se lag gayee aur i love you sonu kaha.

Maine use koi response nahi diya aur ghar se nikal gaya. Din bhar sukoon se nahi reh paya main. Apni G/F Kajal se bhi mila. Usse nigah nahi mila pa raha tha, Woh samajh gayee ki koi baat hai usne mujshe poocha bhi magar maine kuch nahi bataya. Mera mann to Sonam ke nange badan ki kalpana me hi khoya tha. Main soch raha tha ki jise kal tak apni sister samajtha tha, Aaaj uske saath sex karne ke alawa aur kuch soojh hi nahi raha. Fir maine ik plan banaya main Medical Store se 2 Neend ki goli lekar shaam ko ghar aya.

Sonam sabke liye Tea lekar aayee to maine apni sister ki Tea mein woh dono goliya daal di. then meri sister shaam 7:00 baje hi so gayee. Main ghar se phir nikla aur kareeb 10:30 baje wapas aya to dekha sonam so rahi thi. fir maine use gaur se dekha to maloom hua ki woh so nahi rahi thi natak kar rahi thi. maine use apne bed par bulaya par woh nahi aayee. Mujhe apni sister ka darr nahi tha to maine use apni god me uthaya aur apne bed par lita diya. Usne kaha

Sonam - aapki ye ada mujhe bahut pasand aaye. i love you sonu
main chup raha.
sonam - plz mujhse bhi kaho na i love you sonam
me - nahi main nahi keh sakta tumhein to pata hai ki main kajal ko chahta hoon.
Itna sunte hi wo foot foot kar rone lagi. Mujhe us par taras aya aur main uske aansu pochne laga. Magar woh chup hone ka naam hi nahi le rahi thi. Then maine uske chehre se apne hoth laga diye aur uske ansu hoton se saaf karne laga. thodi der mein woh normal hone lagi.

Then main uske gale par kiss parne laga. to woh boli
sonam - ajao meri jaan mujhe pyar karo
me- tumko pyar hi to karna hai aaj
sonam- kya kaha apne? 'jaan' kaha apne mujhe
me - haan meri jaan (woh khush hui aur mujhe gale se lagakar bolo)
sonam- yahi word sunne ko main kabse bachain thi. haan meri jaan sirf main hi aapki jaan hoon.

Us bechari ko to andaza bhi nahi tha ki yeh sirf sex ki demand thi uske liye mera pyar nahi. Main uske boobs ko dabane laga. Aur woh siskiya lete hue boli
sonam - upar se jitna pyar karna ho to kar lo magar andar se kuch mat karna.
me - aap sab kuch hoga aur tum mujhe rokogi nahi samjhi tum. tumhein meri kasam hai aaj mat rokna mujhe

Ab woh kuch nahi keh pai. Woh to soch rahi thi ki thoda jism dekar mera pyar pa legi magar main janta tha ki uska sab kuch lekar bhi main use dili pyar kabhi nahi de sakoonga. Khair us waqt to sex sawar tha. Mujhe lag raha tha ki woh khushi khushi apna jism dene ko abhi poori tarah taiyar nahi hai isliye maine uske galon par apne hoth rakhe aur hathon me uske naram boobs dabate huye sonam ke upar a gaya aur apne tane land ko uski choot par ragadhne laga. Woh bahut jald garam ho gayee aur mera saath dene lagi.

Maine Mouka sahi dekha aur uske kurte ko utara. Room mein 100 Watt ka bulb chal raha tha jiski roshni me uska badan chamak raha tha. Is kadar sexy aur slim body thi uski ki main bardasht nahi kar paya aur uske nange pet par apne hoth rakh diye. aur ragadne laga woh apne badan par mere hoton ki tapish seh na saki aur uthkar mere seene se chipak gai aur boli
sonam - meri jaan aaj mujhe apna bana lo main apke bagain nahi reh sakti
me - main to tumhe aaj apna bana kar hi rahoonga

Kehte huke maine uski nangi peeth par apne haath fere then bra ke huk ko khol diya aur uski gode (lep)par apna sir rakha aur bra ko utar liya. Woh sharma gai aur apna chehra niche chupane lagi jiski wajah se boobs ke nipple mere hoton tak aa gaye aur maine bina der kiye use muh me le liya. woh bechain ho gayi aur meri shirt ke button kholne lagi then mene use bed par patka aur main uske doodh dekhta raha medium size ke kamsin boobs dekhar meri saanse bari hone lagi tabhi usne meri shirt utari aur mujhe apne upar litakar betabi se mere hoton ko choosne lagi.

Maine apna haath uski salwar par rakha aur nada khola then panty niche sarka di. aur nangi choot ko sehlane laga. Choot poori gili thi maine ek ungli usme dali to sonam ne mere hoton ko zor se apne teeth me daba liya. aur apne hathon se meri jeans ka batan khol diya. aur use neeche sarka kar underwear ke upar se mere 7 inch ke land ko marodne lagi.

Ab hum dono bechain the usne bhi meri pant aur underwear neeche sarka diya. Aur mere land ko lekar apni choot par ragadne lagi. Mujse bardasht nahi ho raha tha aur main use choda aur uski salwar aur panty ko utar feka. Usne bhi jaldi se meri pant aur underwear kheech li. Woh mujhse chipki ja rahi thi. Aur maine use apne se alag karke usko bed par sidha litaya. Aur uske pairo par akar wahan kiss kiya, then pindliyon par, then jangon par, fir uski choot ke aaspass dher sare kiss kiye. Woh apna sir pakde tadap rahi thi.

Aur maine uski choot ko dekha. Ekdam gori aur kuwari choot thi uski, Shaved thi, main us par nidhal ho gaya aur us par ek halka sa kiss ki to choot ke hoth fadfada gaye. Usne jhat se mujhe apni oppar kheecha, Aur boli,
sonam - ab mat tarsao meri jaan, mujhe thanda kar do, meri pyas bujha do, mujhe apna bana lo
aur bhi na jaane kya kya kahe ja rahi thi, mujhse bhi ab raha nahi ja raha tha. then maine uske dono legs felaye. aur apna land uski soft choot ke hoton par rakha. woh mujhe apne badan se chipka ke boli
sonam - thoda aram se, main abhi virgin hoon,

Me - dard to hoga, bardasht karo, kuch pane ke liye kuch khona bhi padta hai.
sonam - haan meri jaan, aap mere saath hai to main har dard bardasht kar loongi. mujhe nahi pata tha ki aap mujhe itna pyar dene wale the warna kal main aapko rokti nahi. ab to bas sama jao mere andar aur mujhe apna banalo. aapne hi mujhe itna pyar diya hai aap hi mere souhar ho.

Maine itni batein suni to control nahi kar kaya aur ek halka sa jhatka mara. Lekin land fisal gaya to maine uski gili choot ko pakda aur choot ka ras apne land par laga liya aur fir se choot ke hoton ko failakar land sata diya aur thodi zor ka jhatka mara thoda land andar gaya, aur uski cheekh nikli maine turant uska muh band kiya. woh dard se chatpata rahi thi. main uske boobs ko kiss karne laga. maine phir se ek jhatka mara aur land andar jaam ho gaya. Woh dard seh rahi thi.

Maine usse kaha dard zyada to nahi ho raha to woh boli aap karte jao main sab seh loongi to maine uske muh par haath rakha aur badi zor se land andar dala. Land uski seal todta hua andar dakhil ho gaya usne apne muh se mera haat hataya aur zor zor se saas kheechne lagi. Uski aankho se aansu aa rahe the. Magar thi bahut himmat wali poochne lagi poora andar hai ya bahar? maine kaha nahi thoda baki hai to boli woh bhi daal do maine ek jhatka aur diya aur mera land uski choot me poori tarah pack ho gaya.

Usne mujhe thodi der rukne ke liye kaha to maine uske upar letkar upar letkar razai odh li karib 10 min ke baad woh normal hui aur maine dhakke marne shuru kiye. Mere har dhakke ka jawab woh poori takat se deti. Hum dono itni sardi main bhi paseena paseena the aur karib 15 min ke baad mujhe laga ki mera ras nikalne wala hai then maine usse kaha to woh boli mera ras bhi nikalne wala hai doosri baar, pehli baar to tabhi nikal gaya tha jab aap lund ko andar daal rahe the. khair maine jaldi jaldi dhakke marne shuru kar diye aur ekdam se mere lund ne apni dhaar uski choot me chodi.

Aur usne apni tange meri tangon me fasa di. Aur choot ne bhi ras choda. Hum dono ek doose se chipke hue ½ Ghante tak lete rahe. Fir uthe to maine dekha ki bedsheet par kafi bada khoon ka dhabba tha aur mera land aur uski choot donon red ho rahe the. fir humne kapde se choot aur lund ko saaf kiya. then woh bedsheet bathroom me le gayee aur do kar le aayee. Maine bhi apne lund ko saaf kiya. Fir us raat hum dono ne do baar fir sex kiya.
Fir woh didi ke paas let gayee. Aur main aram se so gaya.

Subha kareeb 11.00 baje aankh khuli to dekha uske papa yani mere mousa ghar par the. Woh use lene aye the aur woh usi din chali gai.Mera ghar me man nahi laga to main kajal se milne chala gaya. Main usse itna pyar karta tha ki usse chupa nahi paya. Aur sab kuch bsta diya. Woh roti hui chali gai. Maine usse baat karne ki bahut koshish ki lekin usne baat nahi ki. Tab mujhe laga jo hua woh theek nahi tha.

Usi din sonam ka phone aya woh bahut khush thi. Maine usse kaha ki jo hua woh theek nahi hua. Then usne bhi rote hue phone cut kar diya. Us sari raat maine socha ki maine kya khoya kya paya. Kajal ne mujhse kareeb 15 din baat nahi ki lekin woh mujhe bahut chahti thi to usne ek din meri is galti ke liye maaf kar diya. Aur usi din maine soch liya ki ab ye galti dobara nahi karoonga. Sonam ke phone kai baar aaye.

Kehti thi ki ghar par koi nahi hai aajaoo. Waise to hum ek hi shehar me rehte the main ja sakta tha but maine apni galti ko sudharna behtar samja aur kabhi nahi gaya. Infact maine unke ghar jaha hi chod diya. Sonam ne mujhse baat karna chod di. kareeb ek saal tak hamare beech koi baat nahi hui. Then ek shaadi mein hum phir mile. Tab maine use samjhaya. Aur phir dheere dheere hamari dosti ho gayee.

Aaj bhi Sonam meri achhi dost hai. Previous year hi uski shaadi hui. Aur woh mujhse non-veg bathein bhi karti hai. But sirf friendship ki limit tak. Us Din ke baad sonam aur maine kabhi sex ke barein me socha tak nahi. To doston ye thi meri zindagi ki bahut badi sacchai, main ummid karta hoon ki desibees ke sare mere friend meri story se kuch massage bhi lene ki koshish karenge.

Friday, 10 July 2015

माँ के बदले माँ - Hindi chudai kahani



 देहरादून मैं मेरा एक दोस्त है सोनू वो मेरे साथ ही पढ़ता है. और मेरे साथ ही बी.एफ भी देखता है. एक दिन मैं उसके साथ उसके घर गया और उसकी माँ उषा आंटी उम्र 40 (34-30- 36) और उसकी बहन शालू उम्र 19(28-26-32) से मिला दोनो मस्त माल है. मैं उषा आंटी को ऊपर से नीचे तक देखता रह गया और मेरे लंड में वाइब्रेशन होने लगा.
सोनू और मैं अच्छे दोस्त थे मुझे पता था सोनू भी मेरी तरह चूत का प्यासा है. हम दोनो ने कुछ कॉल गर्ल को भी चोदा है. अब तो रोज मुझे उषा आंटी को चोदने के सपने आने लगे. मुझे पता था सोनू अपनी माँ को चोदने नहीं देगा और आंटी भी ऐसी औरत नहीं है, तो मैंने सोनू को फंसाने कि सोची और उसे कहा कि मेरी माँ आ रही है और सीमा आंटी (मेरे दूसरे दोस्त कि माँ जो गावं में रहती है जिसे मैं पहले चोद चुका था) को बुला लिया, मैंने सीमा आंटी को पहले ही प्लान बता दिया था कि आप मेरी माँ है।
फ़िर एक दिन सोनू मेरे से मिलने आया मैं जानबुझ कर थोड़ी देर के लिए बाहर गया और इसी बीच सीमा ने सारे घर में झाड़ू और पोछा लगाया जिससे उसके मस्त बोबे सोनू को दिखे. उसके बाद वो रोज आने लगा और माँ के शरीर के मज़े लेने लगा. एक दिन मैंने उससे कहा कि कल मैं अपनी गर्लफ़्रैन्ड के साथ मसुरीं जा रहा हूँ.
अगले दिन सोनू घर आया और माँ से पूछा राहुल कहाँ है. तो वो बोली वो तो कहीं गया है शाम तक आयेगा उस दिन मैंने माँ को कुछ इस तरह से तरिके बताये ताकी वो आसानी से माँ को चोद ले. पहले माँ ने उसके कपड़ो पर पानी डाल दिया, सोनू ने अपने कपड़े बदल लिए फ़िर माँ ने बाथरुम में फ़िसलने का नाटक किया और सोनू उन्हें रूम में उठा के ले आया फ़िर माँ ने सोनू से मालिश करवाई और फ़िर चुदाई भी. मेरे घर में लगे केमरे में उनकी चुदाई रिकार्ड हो रही थी.
तभी मैं घर आ गया और उन दोनो को रंगे हाथो पकड़ लिया सोनू मेरे घर से चला गया. अगले दिन मैं उससे मिलने उसके घर गया वो बहुत झिजक रहा था मैंने उसे बहुत बुरा भला कहा और वो कुछ ना बोला. अगले दिन सोनू ने मुझसे माफ़ी माँगी तो मैंने कहा कि एक शर्त पर माफ़ कर सकता हूँ वो बोला क्या मैंने कहा माँ के बदले माँ चाहिए, वो तो चोक गया और बोला ये क्या कह रहा है. ऐसा नहीं हो सकता मैंने कह अच्छा मेरी माँ को चोदते वक्त नहीं सोचा, फ़िर मैंने उसको अपनी माँ कि और उसकी चुदाई कि विडिओ दिखाई और कहा कि ये तेरी माँ को भी दिखाउगां. वो थोड़ा शांत हुआ और सोचने लगा और बोला मैं कल सोच के बताऊंगा, मुझे पता था अगर ये सोचेगा तो ना ही कहेगा. तो मैंने उसे समझाया कि उसके पापा को मरे हुये 6 साल हो गये उसकी माँ को भी तो इन सब कि जरुरत है और अगर वो मेरी माँ को सुख दे सकता है तो उसकी माँ को मैं क्यों नहीं.
वो तैयार तो हो गया पर डरा हुआ था कि माँ कैसे मानेगी. मैंने उससे कहा कि वो मेरे ऊपर छोड़ दे पर दोस्तो उसकी माँ को मनाना इतना आसान नहीं था. मैंने बहुत सोचा फ़िर एक प्लान समझ में आया मैंने एक दिन सोनू को कहा कि किसी शादी में अगर जाना हो तो आंटी के साथ मैं जाऊँगा तभी एक दिन शादी में जाना था तो सोनू ने कहा कि माँ मुझे बुखार है आप राहुल को ले जाये उषा आंटी तैयार हो गयी, मैं उन्हें उनकी गाड़ी में ले के शादी में गया दोस्तो आज वो परी से कम नहीं लग रही थी ब्राउन कलर कि साड़ी में मस्त माल लग रही थी मन कर रहा था कि अभी चोद दूँ, फ़िर हम शादी में पहुँचे वहाँ डिनर करते वक्त मैं आंटी से कई बार टच हुआ.
फ़िर मैंने एक कोल्ड ड्रिन्क ली और सफाई के साथ उसमे नींद कि गोली डालकर आंटी को पिला दी, हम वहाँ से लोटने लगे तो राते में सुनसान राता पड़ता है. और थोड़ा सा जंगल भी है शादी भलावला में थी, आंटी नींद में थी मैंने गाड़ी रोकी और देखा आंटी सो चुकी है. मैंने आंटी को उठाया और जंगल में पेड़ो के पास ले जाकर उनके कपड़े उतारे और उनकी नंगी विडिओ बना ली (दोस्तो मैं चाहता तो उन्हें चोद भी सकता था पर मेरा लंड औरत को जागते हुये ही चोदता है और वो भी उसकी मर्जी से) फ़िर मैंने आंटी को ऐसे ही गाड़ी में डाला और उनके ऊपर उनके कपड़े डाल दिए और गाड़ी को वहीं झाडियों में पेड़ से टकर मारी और अपने माथे में थोड़ी चोट भी लगा ली, फ़िर वहाँ से गाड़ी निकाली और घर ले आया. सोनू और उसकी बहन आई और आंटी को घर ले गयी वहाँ मैंने बताया कि हमारी गाड़ी का एक्सीडेन्ट हो गया और मैंने कुछ लोगो से मदद माँगी तो उन्होने मुझे बाँध कर आंटी के साथ रेप किया. सुबह आंटी को होश आया तो हमने उन्हें सारी बात बताई पर आंटी को यक?न नहीं हुआ तो मैंने कहा आप सो गयी थी और फ़िर एक्सीडेन्ट के कारण बेहोश हो गयी थी.
अगले दिन एक कोरियर में आंटी कि नंगी विडिओ उनके पास भेजी और कहा अगर विडिओ चाहिए तो 2 लाख रुपए चाहिए, आंटी रोने लगी और वो ये बात अपने रिशतेदारों को भी नहीं बता सकती थी ओर 2 लाख केश कहाँ से आते मैंने कहा आंटी मैं आपकी मदद करुगां और वो विडिओ ले आऊँगा.
फ़िर मैंने आंटी को वो विडिओ ला के दी जिसमें सोनू मेरी माँ को चोद रहा था, आंटी ने अकेले में वो विडिओ देखी और मुझे फोन किया कि ये वो विडिओ नहीं है तो मैंने कहा कि इसमे सोनू जिसे चोद रहा है वो मेरी माँ है और वो विडिओ मेरे पास है अगर वो भी मुझसे चूदेगी तो मैं ये विडिओ उसे दूँगा, वो मना करने लगी मैंने फोन काट दिया उसने कई बार मिलाया मैंने फोन स्विच ऑफ कर दिया, तब उसने सोनू को बहुत डाटा और कहा कि उसने ऐसा क्यों किया और अब क्या होगा। फ़िर सोनू ने कहा कि अब राहुल कि बात माननी पड़ेगी.
सोनू अपनी मम्मी को लेकर मेरे घर आया उसकी मम्मी ने मुझे समझाया कि सोनू से ग़लती हो गयी उसे माफ़ कर दो, मैंने मना किया तो वो कहने लगी कि इसमे तेरी मम्मी कि भी ग़लती है तो मैंने कहा मुझे कुछ नहीं पता मुझे माँ के बदले माँ को चोदना है. जब मैं नहीं माना तो वो गुस्से में चली गयी, मैंने सोनू को फोन करके कहा कि वो अपनी माँ को मना ले सोनू ने अपनी माँ को कहा कि माँ केवल एक बार उससे वो विडिओ ले लो फ़िर मैं सब देख लूँगा, उसकी माँ तैयार हो गयी. और उसने मुझे फोन किया मैंने उससे कहा कि आज रात कहीं जाने का बहाना बना कर अपनी माँ को मेरे घर छोड़ दे और मेरी माँ के साथ किसी होटल में रंगरलियां मना ले.
ऐसा ही हुआ सोनू ठीक 8 बजे उषा को लेकर मेरे घर आ गया और थोड़ी देर बाद मेरी माँ को लेकर जाने लगा उसकी माँ ने कहा कि तुम कहाँ जा रहे हो तो मैंने कहा कि ये लोग होटल में रात बिताएगें यहां मेरे रूम में ज्यादा जगह नहीं है. वो चले गये आंटी एक सादा साड़ी पहन कर आई थी, मैंने उन्हें माँ कि लाल साड़ी दी और तैयार होने को कहा वो थोड़ा डरी हुई थी और शर्म भी आ रही थी, मैंने उन्हें समझाया और कह कि अपनी दूसरी सुहागरात का मजा लो. फ़िर वो थोड़ा सही हुई और तैयार होने लगी मैं इतने में ऊपर चला गया.
मैं ऊपर बिस्तर डाल के आंटी का इन्तजार कर रहा था. मैंने सारा इंतज़ाम कर रखा था, जैसे कि मेरी सुहागरात हो, कोंडोम भी रखा था. मैं बनियान में था. उतने में आंटी आई लेकिन आंटी भूल गयी कि आज चुदवाना है, मैं पूरी तैयारी में था मेरा लंड खड़ा था. सेक्स बडाने के लिए सेक्सी किताब पड़ रहा था, उतने में आंटी आई, बोली क्या पड़ रहे हो, तो मैं जोश में बोला कि आज अपनी सुहागरात है ना इसलिए सेक्सी किताबे पड़ रहा हूँ. मेरा लंड खड़ा था. आंटी सिर्फ़ मेक्सी पहनकर आई थी और अंदर कुछ भी नहीं था, मेक्सी में वो एकदम सेक्सी दिख रही थी, आंटी मेरे बाजू में आ के लेट गई , मैंने हल्के से आंटी कि चूत के ऊपर हाथ फेरा मुझे मज़ा आ रहा था, मैंने आंटी कि मेक्सी को नीचे से उठाया, तो मुझे गोरी टाँगे देखी.
देखते ही मैंने चाटना शुरू किया आंटी भी मेक्सी पूरी निकाल के नंगी हो गयी, अंदर चडी नहीं थी, मैं चाट रहा था, चाटते-चाटते मैं उनकी चूत के पास गया, क्या मस्त गोरी चूत थी, क्लीन शेव था, मैं अपनी उंगली अंदर घुसा रहा था लेकिन अंदर जा नहीं पा रही थी, आंटी बोली अभी 10 साल से कुँवारी है ऐसे नहीं घुसेगी. मैं अपनी टांग आंटी के चूत पर रगड़ने लगा, आंटी के मुहँ से आआहह कि आवाज़ निकल रही थी मस्त 5 मिनट तक चाट रहा था, बाद में आंटी बोली, तड़पाओ मस्त चोदो मेरे पतिदेव, आज मुझे बहन से बीवी बनाओ, मैं आंटी के ऊपर चड़ने लगा, आंटी के बोबे एकदम टाइट थे, मैंने एक मुहँ में लिया और एक को मसलने लगा, आंटी के पूरे बदन में आग लग गयी थी, मेरे को बहुत मज़ा आ रहा था, बाद में आंटी को मुहँ मैं फ़्रैन्च किस किया, 5 मिनट तक आंटी के लिप्स चूस रहा था.
बाद में आंटी बोली तेरा लंड चुसवायेगा तो मैं जल्दी से नंगा हो गया और टाइट लंड आंटी के हाथ में दिया, आंटी ने उसे सहलाया फ़िर मुहँ में लिया और चूसने लगी, मैं तो खुशी के मारे उछल रहा था, मैं आंटी के मुहँ को चोद रहा था, आंटी बहुत टाइम तक चूस रही थी. मैं भी आंटी के मुहँ में चोद रहा था, अचानक मेरा विर्य गिरने को आया आंटी कि गदन पकड़ के ज़ोर ज़ोर से चोदा बाद में मेरा विर्य आंटी के मुहँ में गिर गया..
आंटी उसे पूरा पी गयी. मेरा लंड सकुड गया. 5 मिनट के बाद आंटी ने वापस मेरा लंड चूस के कड़क बनाया और बोली मेरी चूत में डाल दे और मेरी चूत को फाड़ दे, मैंने आंटी कि चूत के नीचे एक तकिया लगाया और मैं उसके ऊपर चड़ गया लंड को चूत के ऊपर सेट किया और लंड को घुसाने लगा लेकिन आंटी कि चूत टाइट होने के कारण चूत में लंड नहीं घुस रहा था. अभी मैं आंटी के ऊपर था, चूत में लंड को बराबर सेट करके और जोर जोर से धक्के दे रहा था आंटी भी मेरा साथ दे रही थी. मुझ से रहा नहीं गया और मैंने मुहँ में रखकर एक जोरदार शॉट लगाया वैसे आंटी दर्द के मारे चिल्ला उठीं मगर मेरे किस और बोबे दबाने से उसे मज़ा आ रहा था, आंटी कि चूत फट गई. मैं जोर ज़ोर से चोद रहा था. आंटी आआहह आआहह करके तड़प रही थी मैं पूरे जोश में था.
मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा, आंटी भी चूत उठा के साथ दे रही थी, बटर कि वजह से पिच-पिच-पिच कि आवाज रूम में गूँज रही थी. बाद में आंटी ने मुझे कस के पकड़ लिया और बोली जोर ज़ोर से चोद मेरी चूत को भोसड़ा बना दे बहनचोद, मैं समझ गया आंटी झड़ने वाली है मैं भी जोर ज़ोर से चोदने लगा, और आंटी कि चूत से गरम वीर्य निकल गया. उसके बाद मैंने आंटी को खूब चोदा बाद में मैंने आंटी को कहा आंटी मैं झड़ने वाला हूँ, तो आंटी बोली मेरी चूत में झड़ ज़ा मैंने अपनी रफ़्तार बड़ाई और आंटी कि चूत में झड़ गया, और मैं शांत हो गया और आंटी के ऊपर सो गया, बाद में आंटी को मैं रोजाना चोदता और वीर्य चूत में छोड़ देता. आंटी भी आई -पिल खाती थी. इसलिए कोई परेशानी नहीं थी. और ऐसे हम दोनो का काम चलता गया.

Thursday, 9 July 2015

बेटा हो तो ऐसा - Hindi chudai sex kahani

जमुना लाल जी पटना से १२० किलो मीटर दूर बिहार के राजपुर गाँव के हाई स्कूल में हेडमास्टर थे, पढाने में बड़े तेज थे और उन्हें गोल्ड मैडल मिला था। वो कहीं भी और अच्छी नौकरी कर सकते थे, लेकिन उन्हें अपने गाँव से बहुत प्यार था, और वहीं वो कुछ करना चाहते थे। २२ साल की उमर में उनकी शादी १७ साल की एक बड़ी सुंदर लड़की कमला से हुई।

उन दोनों की जोड़ी बड़ी अच्छी लगी सबको। जमुना लाल जी कद के थोड़े छोटे थे- ५ फीट ३ इंच के, लेकिन कमला शादी के समय उनसे १ इंच छोटी थी। कमला का बदन शादी के समय तक भरा नहीं था। शादी के बाद भी उसका कद बढ़ता गया और साल भर में अपने बेटे राहुल को जन्म देने के समय तक वो करीब ५ फीट ४ इंच की हो गई और उसका बदन भी गदरा गया। उनकी दूसरी संतान दीपा राहुल के ८ साल बाद पैदा हुई, लेकिन उसके जन्म के समय कमला को शारीरिक समस्या हो गई और उसका ऑपरेशन करना पड़ा, जिसकी वजह से वो फिर कभी माँ नहीं बन सकती थी।

तो फिलहाल अभी जमुना लाल जी ४४ साल के थे और कमला ३ महीने में ४० की होने वाली थी। जमुना लाल जी जैसे तेज थे, उनका बेटा राहुल भी उतना ही तेज निकला और २१ साल की उमर मे आई आई टी कानपुर में कंप्यूटर साइंस के आखिरी साल में था उनकी १३ साल की बेटी दीपा बड़ी सुंदर मासूम कली थी।

हर इन्सान की कोई न कोई कमजोरी होती है। जमुना लाल जी को हाई स्कूल में ही बीड़ी सिगेरेट की लत लग गई थी, जो कभी नहीं गई। कॉलेज में पीते रहे क्योंकि उससे वो रात भर जग कर पढ़ाई करने में मदद मिलती थी। खैर ! ४ साल पहले जमुना लाल जी को काफी तेज़ दमा शुरू हुआ। दमे ने उन्हें अशक्त कर दिया, लेकिन कम से कम जान लेवा नहीं था। लेकिन अभी ३ महीने पहले डॉक्टर ने बताया कि उन्हें टी बी भी हो गई है और उन्हें किसी सैनेटोरियम में दाखिल कर देना चाहिए। ऐसी स्थिति में घर में सभी आस लगाये बैठे थे कि जब राहुल को नौकरी मिलेगी तो सब ठीक हो जाएगा।

जमुना लाल जी ने अपने ख़राब सेहत की वजह से स्कूल जाना भी बंद कर दिया था, लेकिन सरकार ने कुछ मदद की जिससे घर का काम काज चलता था। पति, पत्नी और बेटी, तीनों जमुना लाल जी के घर के पहले मंजिल पर रहते थे और ऊपर के मंजिल पर सिर्फ़ १ कमरा था जो स्टोर के जैसे इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन पैसे की तंगी की वजह से जमुना लाल जी उसे अब खाली कर के किराये पर लगाने की सोच रहे थे।

जब राहुल आखिरी परीक्षा देकर आया तो उसने ऊपर के कमरे को खाली किया और जब तक वो किराये पे नहीं लगता तब तक उसे अपना कमरा बना लिया। रिजल्ट निकलने से पहले ही राहुल को कई नौकरियों के प्रस्ताव आए थे, जिसमे कई बहु-राष्ट्रीय कम्पनियाँ और अच्छी कम्पनियाँ थी। राहुल ने एक बहु-राष्ट्रीय कम्पनी की नौकरी स्वीकार कर ली थी, क्योंकि उसे यहाँ २ हफ्ते की ट्रेनिंग के बाद उस कंपनी के ऑफिस में काम करने का मौका मिलेगा। कंपनी ने राहुल को सिर्फ़ २ हफ्ते का समय दिया काम पर आने के लिए। राहुल के लिए भी अच्छा था कि जल्दी नौकरी मिलने से जल्दी पैसा भी आना शुरू हो जाएगा।

पहली सुबह राहुल की नींद पानी के हैन्ड-पम्प की आवाज़ से खुली। उसने खिड़की से नीचे जो देखा, वो दृष्य देखकर अवाक रह गया।

आंगन के एक कोने में हैन्ड-पम्प एक हौज़ में था और उसके तीन ओर दीवार डाल कर एक बाथरूम जैसा बनाया हुआ था और बाथरूम के दरवाज़े पर एक कपड़े का पर्दा था। लेकिन बाथरूम के ऊपर कोई छत नहीं थी।
राहुल ने देखा कि उसकी माँ बिल्कुल मादर जात नंगी पानी का हैण्ड पम्प चला रही थी। गेहुआं गदराया बदन और उसके उठे हुए मांसल चूतड़ हैण्ड-पम्प चलने से थिरक रहे थे और उसकी बड़ी बड़ी आजाद चूचियां भी पेंग मार रही थी। राहुल यह दृश्य एक टक देखता ही रह गया, जैसे उसकी आँखें पथरा गई हों।

इसके पहले राहुल ने कई बार माँ को नहाने के बाद देखा था लेकिन कमला हमेशा पेटीकोट को अपनी चूची के ऊपर बाँध कर नहाने जाती थी या फिर नहा के निकलती थी लेकिन आज की तरह बिल्कुल नंगी कभी नहीं देखा था।

कमला को शायद इस बात की ख़बर नहीं थी कि ऊपर के कमरे में राहुल है और वहां से सब कुछ दिख सकता है। हौज में पानी भरने के बाद वो मग से पानी लेकर नहाने लगी। नहाना क्या, ज्यादा पानी वो अपनी खड़ी चूचियों की घुंडी पर डालती थी। आज कल उसका सारा बदन जैसे हमेशा जलता रहता था। उसने लेडी डॉक्टर को बताया, तो लेडी डॉक्टर ने कहा कि इस उम्र में ऐसा ही होता है, इसे हॉट फ्लैश कहते हैं।

लेडी डॉक्टर ने ही बताया कि जब ज्यादा जलन हो तो ठंडे पानी से नहा लो। लेडी डॉक्टर को भी जमुना लाल जी के सेहत के बारे में मालूम था, इसलिए उसने हिचकिचाते हुए कमला को बताया कि जब ज्यादा गर्मी लगे तो ऊँगली से अपने को शांत कर लिया करो। कमला अब हर रोज तीन बार नहाने लगी और लेडी डॉक्टर की सलाह के मुताबिक जब भी वो नहाती, वो ऊँगली से अपने को झाड़ लेती। उसे कुछ रहत तो मिलती थी, लेकिन कहाँ ऊँगली और कहाँ एक मुस्टंड लंड। कोई तुलना नहीं।

खैर, सारी दुनिया से बेख़बर, ठंडे पानी से नहाने के बाद कमला ने अपनी ऊँगली से अपनी चूत पर साबुन लगा के दाने को मसलना शुरू किया। उसकी आँखें बंद हो गई और वो अपने होंठ काटने लगी। यह देख कर राहुल का लण्ड भी खड़ा हो गया, और वो हलके हलके मूठ मारने लगा। जिस एंगल से राहुल देख रहा था, माँ की काले काले घुंघराले बाल से ढकी चूत देखने में कोई मुश्किल नहीं हुई। ५-७ मिनट के बाद उसकी माँ के बदन में कम्पन हुई, और वो शांत हो गई। राहुल समझ गया कि उसकी माँ झड़ गई, और यह सब देख कर मूठ मारते हुए राहुल का भी निकल गया।

जब तक राहुल वहां रहा, २ हफ्ते उसने दिन में तीन बार यही दृश्य देखा और मूठ मारा। वास्तव में वो दिन में भी इंतज़ार में रहता था कि उसकी माँ कब नहाने जायेगी। जब भी उसकी माँ घर में चलती, वो उसके चूतड़ और चूचियों कि थिरकन देखता ही रह जाता। कई बार तो राहुल ने माँ को सुबह मैं जबरदस्ती चोदने की भी ठानी। एक बार तो वो बाथरूम के पास जा कर लौट आया, यह सोच कर कि उसे इतना गरम करूँगा कि ख़ुद चुदाने आ जाएगी तब उसे कोई ग्लानि नहीं होगी।

२ हफ्ते के बाद राहुल अपनी नौकरी पे चला गया, और फिर वहां से अमेरिका। लेकिन वह मन से माँ का नंगा रूप कभी नहीं भूल पाया। राहुल को अपनी माँ की इस दशा पर तरस भी आता था, कि ऐसी मस्त औरत को ऐसे कम उमर में पूरी चुदाई का सुख नहीं मिल पाया।

उसने जब अमेरिका से पैसे भेजने शुरू किए तो घर की हालत भी ठीक होने लगी। राहुल ने माँ को एक सेल फ़ोन लेने को भी कहा, और वो अपनी माँ से हर हफ्ते बात करता था। फिर एक दिन उसने एक योजना बनाई और माँ से राय मांगी। योजना यह थी कि राहुल ६ महीने के बाद भारत आकर पिताजी को सैनेटोरियम में भरती करा देगा, और दीपा को कुरसेओंग के पब्लिक स्कूल में, और माँ को अमेरिका ले आएगा जिससे उसके खाने पीने का हिसाब भी ठीक हो जाएगा।

माँ क्या करती, घर का सब कुछ तो राहुल की वजह से ही चल रहा था, लेकिन वो बोली कि इस सब में तो बहुत खर्च होगा। राहुल ने कहा कि माँ मुझे जितना मिलता है उसमें कोई मुश्किल नहीं होगी। माँ ने पूछा, घर का क्या करेंगे ? राहुल ने कहा, अभी किसी को किराये पर दे देंगे, और जब कोई खरीद डर मिल जाए तो बेच देंगे। जमुना लाल जी का सारा परिवार राहुल की सलाह से बहुत खुश हुआ। बेटा हो तो ऐसा - श्रवण कुमार के जैसा।

६ महीने के बाद राहुल भारत आया, और योजना के मुताबिक पिता जी को सैनेटोरियम में और दीपा को बोर्डिंग स्कूल में दाखिल करवा दिया। इत्तेफाक से स्कूल के नए हेडमास्टर ने उनका घर किराये पर ले लिया तो वो भी समस्या हल हो गई। यह सब काम करने के बाद राहुल ट्रेन से माँ को लेकर दिल्ली चला। कार्यक्रम ऐसा था कि दिल्ली में वीसा के लिए १ हफ्ता लगेगा, और तब तक वो माँ को दिल्ली भी घुमा देगा। बेचारी कमला दिल्ली तो क्या, सिर्फ़ १ बार पटना गई थी जब जमुना लाल जी को राज्य के सबसे अच्छे हेडमास्टर का इनाम मिला था। कमला थोड़ी घबरा रही थी कि वो जब पटना और दिल्ली से डरती है तो अमेरिका में कैसे काम चलाएगी। राहुल ने उसे समझाया कि माँ तुम बड़ी तेज हो, सब कर लोगी, और मैं जो हूँ।
राहुल ने ट्रेन में वातानुकूलित श्रेणी में आरक्षण करवाया था, और उसकी माँ ट्रेन की सफाई देख कर अवाक् हो गई। राहुल और उसकी माँ को दोनों नीचे के बर्थ मिले थे, और ऊपर सिर्फ़ एक आदमी था, और चौथा बर्थ अलाहाबाद के कोटे में था। जब वो तीसरा आदमी शाम को बाथरूम गया तो राहुल ने माँ को एक नाईट गाऊन दिया, और बोला कि ये सोने के लिए है, पहन लो। माँ को समझ नहीं आया कि उसे पहने कैसे, तो राहुल ने कहा कि वो बाहर जाएगा तब सारे कपड़े उतार कर सिर्फ़ नाईट गाऊन इस तरह पहन लो, राहुल ने माँ को उसकी साड़ी ब्लाउज के ऊपर से ही नाईट गाऊन पहना कर दिखाया।

फिर राहुल बाहर चला गया, और २ मिनट के बाद आया तो देखा कि उसकी माँ राहुल की ओर पीठ कर के खड़ी थी। माँ ने कहा कि इसमे तो सामने से बिल्कुल खुला है, तो राहुल ने बताया कि इसमें बेल्ट है ना बांधने के लिए। राहुल ने बेल्ट के दोनों छोर पकड़ के पीछे से ही बेल्ट को बांधा और माँ को घूम कर सामने से दिखाने को कहा।

राहुल ने जान बूझ कर ही ऐसा नाईट गाऊन ख़रीदा था जिसका गला काफ़ी नीचे तक कटा था, और वह घुटने से ४ इंच ऊपर तक ही था। कमला ऐसे कपड़े पहन कर बड़े पशोपेश में थी, और राहुल ने यह भाँपते हुए कहा कि माँ तुम अमेरिका में लोगों को जैसा कपड़ा पहनते देखोगी उसके मुकाबले ये कुछ नहीं है। घबराओ नहीं, तुम इन सबकी आदि हो जाओगी। अब सो जाओ। कमला ने एक हाथ से गाऊन से अपनी चूची को ढकने की कोशिश की और दूसरे से जाँघों के पास के खुले हुए गाऊन को साथ कर के पकड़ा, और कम्बल में घुस कर सो गई। राहुल भी अपने बर्थ पर सो गया।

सुबह ट्रेन दिल्ली पहुँची और राहुल और कमला एक होटल पहुंचे जहाँ राहुल ने पहले से आरक्षण करवा रखा था, लेकिन उसने १ हफ्ते का सिर्फ़ १ बेड का आरक्षण करवाया था कि तब उन दोनों को साथ सोने और करीब आने का मौका भी मिलेगा।

होटल देख कर माँ की आँखें चौंधिया गई। लेकिन सबसे पहले वो नहाना चाहती थी, सिर्फ़ नहाना ही नहीं, अपने जलते बदन को ठंडा करना चाहती थी। गाँव से चले उसे पूरा १ दिन हो गया था और उसके बदन में जैसे आग लगी थी। राहुल को सब मालूम था, इसलिए उसने अपना कैमरा फ़ोन बाथरूम के सिंक के नीचे लगा कर चालू कर दिया और माँ को नहाने जाने को बोला, उसने फव्वारे को चला के दिखाया। बाथरूम का दरवाजा बंद करते ही कमला ने फव्वारे से ठंडा पानी चला कर पूरे बदन पर साबुन लगाया और चूत मल कर अपने को झाड़ा।

इसके बाद राहुल नहाने गया और कैमरा फ़ोन की रिकॉर्डिंग देख कर मन ही मन मुस्कुराया - क्या मस्त चुदासी चीज़ है ?

राहुल ने माँ को कहा कि सबसे पहले वो उसे एक सैलून ले जा कर उसकी ऐसी काया पलट करवा देगा कि वो ख़ुद को पहचान नहीं पायेगी। और उसके बाद उसके लिए कुछ कपड़े भी खरीदेगा क्योंकि वो कपड़े यहाँ सस्ते मिलेंगे। उसने एक माँ का साइज़ नापने के लिए एक टेप निकला और माँ को सामने खड़ी होने को बोला और नापने लगा। चूतड़-४१, सीना-४०, कमर-३४। नापने के बहाने उसने कई बार माँ की चूची, चूतड़ और नंगी कमर को भी हलके से छू लिया।

इसके बाद उसने माँ को टैक्सी में सैलून ले जा कर उसके बाल ठीक कराये, और फेशियल करवा के उसका चेहरा और चमकने लगा। वापस टैक्सी में बैठते ही राहुल ने माँ को बाँहों में भर कर उसके गाल चूम लिए और बोला- माँ तू तो क्या मस्त सुंदर लग रही है !

कमला को राहुल का इस तरह करना अच्छा ही लगा, लेकिन उसने राहुल को इशारा किया कि टैक्सी वाला शीशे में देख रहा है। फ़िर टैक्सी से वो माँ को एक मॉल ले गया और माँ के लिए १ सलवार-कमीज़, १ स्कर्ट -ब्लाउज, और २ जींस-टॉप माँ के आकार के ख़रीदे। इसके बाद उसने माँ के लिए २ ऊंची ऐड़ी के सैंडल, और कई नकली सोने के माडर्न दिखने वाले कानों की बालियाँ, गले के हार और चूड़ियाँ आदि बहुत कुछ खरीदा और दोनों लौट कर होटल आ गए।

अपने ऊपर इतना खर्च करते देख कर कमला अपने बेटे के ऐहसान में डूबती गई। टैक्सी में एक बार माँ ने राहुल को कहा भी कि उस पर इतना खर्च करने की क्या जरूरत है तो राहुल ने माँ की जांघ पर हाथ मार कर कहा- माँ तुम्हारे लिए तो कुछ भी कर सकता हूँ मैं !

राहुल हमेशा माँ को छूने या पकड़ने का मौका कभी नहीं चूकता था, गाड़ी से उतरते, या किसी सीढ़ी पर चढ़ते, उतरते वो कभी माँ का हाथ तो कभी बांह पकड़ लेता था। कभी उसकी कमर पर हाथ रख देता था तो कभी हल्के से माँ के चूतड़ पर इस तरह से छू लेता था जैसे अनजाने में हाथ लग गया हो।

होटल आ कर उसने माँ को कपड़े पहन कर देखने के लिए कहा। शुरूआत हुई सलवार-कुर्ते से, और फ़िर स्कर्ट-ब्लाऊज़। दोनों बिल्कुल ठीक थे। जब कमला जींस पहन कर आई तो उसकी सेक्सी फ़िटिन्ग देख कर राहुल के लण्ड में हरकत होने लगी, लेकिन कमला ने कहा कि वो बड़ा कसा लग रहा है उसे।
राहुल ने समझाया कि माँ यह जींस ऐसी ही होती है कि उभार ठीक से दिख सकें, और तुम्हारे तो हैं भी इतने सुन्दर !

यह कहते हुए उसने कमला के चूतड़ों पर हाथ रख कर उसकी गोलाइयों को एक बार सहला दिया और कहा कि पहनने लगोगी तो अच्छा लगने लगेगा। राहुल के इस तरह करने पर कमला थोड़ी चौंकी, लेकिन जब तक वो कुछ सोचती, राहुल ने उसकी कमर पकड़ कर अपने सामने कर उसकी चूत की ओर नज़र डाली और कहा- वाह ! क्या फ़िट बैठी है यहाँ सामने भी ! राहुल ने जानबूझ कर माँ के लिए पैंटी नहीं खरीदी और कमला ने कभी पैंटी कभी पहनी भी नहीं थी तो उसे यह मालूम नहीं था कि पैंटी पहनना जरूरी है।

हाँ ! मॉल में उसने अच्छी अच्छी ब्रा देखी थी लेकिन शर्म के मारे वो राहुल से ब्रा के लिए कह नहीं पाई।

कमला ने राहुल से पूछा- आज कितना खर्चा हुआ?

तो राहुल ने जब सारा खर्च बताया तो कमला ने कहा कि टैक्सी की जगह हम लोग बस में नहीं ज सकते क्या?

राहुल ने कहा कि हाँ, पैसे तो बचेंगे, लेकिन भीड़ में थोड़ी परेशानी होगी तुम्हें।

कमला ने कहा कि जैसे इतने सारे लोग बस लेते हैं, हम भी ले लेंगे।
इसके बाद कमला और राहुल सोने की तैयारी करने लगे। कमला ने अपना नाईट-गाऊन पहना और राहुल पायज़ामा-बनियान में।

लेकिन आज़ कमला नाईट-गाऊन पहनने में नहीं शरमा रही थी जबकि उसकी चूचियों उभार और उसकी नंगी जांघें राहुल को दिख रही थी। यही नहीं, जब वो बाथरूम से नाईट-गाऊन पहन कर निकली तो पीछे से रोशनी होने की वज़ह से उसका शरीर राहुल को करीब करीब नंगा ही लग रहा था। रात भर माँ बेटे होटल में साथ सोए और राहुल ने माँ के ऊपर कई बार हाथ भी रखा, लेकिन इसके अलावा और कुछ नहीं हुआ।

दूसरे दिन राहुल और कमला बस से दिल्ली घूमने निकले। कमला ने सलवार-कुर्ता पहना था। पहली बार ही बस में चढ़ते हुए वो समझ गई कि राहुल क्यों बोल रहा था कि भीड़ भाड़ में मुश्किल होती है बस में। वो चारों ओर से मर्दों से घिरी हुई थी। कई लोगों के हाथ उसने अपने स्तनों और चूतड़ों पर महसूस किए। कुछ लोगों ने कमला के चूतड़ों की दरार में अपना लण्ड रगड़ा। कई तो सिर्फ़ एक दो बार छू या दबा कर वहाँ से खिसक जाते थे, लेकिन कई तो ऐसे निडर थे कि हाथ हटाने का नाम नहीं लेते थे।

एक ने जब ऐसा किया तो कमला पूरा घूम गई, लेकिन तब उसने कमला की जांघों के बीच उसकी चूत पर ही हाथ रख दिया। कमला थोड़ा घबरा गई और उसे समझ नहीं आ रहा था कि अब क्या करे।

राहुल पास ही खड़ायह सब देख रहा था। उसने एक सीट के पास थोड़ी जगह बनाई और कमला को कहा- आप यहाँ बगल में आ जाओ। कमला को अब थोड़ी राहत मिली। कम से कम वो चारों ओर से लोगों से घिरी नहीं थी। उसने एक हाथ से ऊपर का डण्डा पकड़ा और दूसरे हाथ से सीट को। अब भी उसके पीछे खड़े और आते जाते लोगों का हाथ वो कभी कभी अपने चूतड़ों पर महसूस कर रही थी। अब उसे डर या इतना बुरा नहीं लग रहा था।

लेकिन तभी उसे लगा कि सामने से कोई हाथ बड़े हल्के से सलवार के ऊपर से उसकी जांघ सहला रहा है। उसे विश्वास नहीं हुआ क्योंकि वो हाथ किनारे वाली सीट पर बैठे एक लड़के का था।

हे भगवान ! आजकल इस उम्र के लड़के भी ऐसे बेधड़क हो गए हैं ! कमला ने सोचा कि देखें यह लड़का किस हद तक बढ़ता है और वो उसकी उंगलियों की हरकत को अपनी जांघों पर महसूस कर रही थी लेकिन बस की खिड़की के बाहर ऐसे देख रही थी जैसे बिल्कुल बेखबर हो। उस लड़के की उँगलियाँ कमला की जाँघों पर सलवार के ऊपर धीरे धीरे ऊपर रेंगने लगी और कमला को ऐसे लगा जैसे उसकी दोनों जाँघों से उसकी चूत तक कोई करंट मार रहा हो और उसकी चूत गीली होने लगी। उस हिम्मती लड़के ने आख़िर कमला की चूत पर अपनी हथेली रख दी और धीरे धीरे मसलने लगा। कमला ने अपनी टांगों को और थोड़ा खोल लिया जिससे लड़के को अपना काम करने में आसानी हो। उसका सर हल्का होने लगा, वो झड़ना चाहती थी, इसी बस में लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
बस रुकी और वो लड़का सीट से उठा, उसका स्टाप आ गया था। लेकिन जाते हुए उसने कमला से कहा- आंटी ! मेरा नाम अनिल है, कल सलवार की सिलाई खोल कर आना तो और मजा दूँगा !

कमला को अब तक लग नहीं रहा था कि वो इस दुनिया में थी, लेकिन लड़के की ऐसी बात सुन कर एकाएक चौंक कर फिर वापिस इस दुनिया में आ गई और उस लड़के की खाली की हुई सीट पर बैठ गई। कमला को ये नहीं मालूम था कि राहुल बस में दूर था लेकिन वो कमला के साथ की सारी हरकतें गौर से देख रहा था।

थोड़ी देर के बाद राहुल उसके पास आया और बोला कि उनका भी स्टाप आ गया है। वो दोनों होटल के पास बस से उतर गए। बस में इतने लोगों के उसके अंग अंग के साथ खेलने से कमला के बदन में आग लग गई थी। उसे सिर्फ़ लण्ड चाहिए था, किसी का लण्ड।

होटल आते ही वो नहाने के बहाने बाथरूम भागी और ऊँगली से अपने को झाड़ा और आकर बिस्तर पर राहुल की ओर अपने चूतड़ कर के सो गई। लेकिन उसे नींद नहीं आ रही थी। राहुल भी कमला की हरकतों से बेखबर नहीं था और उसके अन्दर मन में एक गुदगुदी सी हो रही थी। वो चित्त लेटा था, लेकिन थोड़ी देर के बाद वो अपनी माँ की ओर घूम कर माँ से सट गया और अपना एक हाथ माँ के ऊपर इस तरह रखा कि उसकी उंगलियाँ कमला की चूची को छूने लगी। राहुल ने इस हरकत को इस तरह किया जैसे वो नींद में हो।

कमला ने नाईट-गाऊन की बेल्ट नहीं बांधी थी इसलिए वो सामने से बिल्कुल नंगी ही थी। राहुल का सीना कमला की पीठ से सटा हुआ था और उसकी जांघ अपनी मां के चूतड़ से। राहुल से हाथ में नींद में फ़िर हरकत हुई और कमला की चूची की घुण्डियों को हल्के से रगड़ते हुए उसका हाथ कमला की नाभि और चूत के ऊपर आकर ठहर गया। लेकिन उसके बाद राहुल के हाथों में कोई हरकत नहीं हुई तो कमला ने सोचा कि राहुल ने सोचा की राहुल नींद में ऐसा कर रहा है।

राहुल ने ऐसा करने के साथ अपनी जांघें माँ के चूतड़ से इतनी सटा दी कि उसका लण्ड कमला के चूतड़ को छू गया। कमला को फिर अपनी चूत में ऊँगली डाल कर झड़ने की इच्छा हुई, लेकिन उसके दोनों जांघ सटे हुए थे और राहुल का हाथ उसके पेट पर इस तरह था कि वो अभी ऐसा नहीं कर सकती थी। वो अगर चित्त हो जाए तो दोनों टांग खोल कर वो ऊँगली कर सकती थी। लेकिन जब वो चित्त हुई तो राहुल के हाथ खिसक कर उसकी नंगी चूत के ऊपर बाल पर आ गए।

अपने चूत की जलन चुदासी माँ नहीं सहन कर पाई और सारी लाज और शर्म छोड़ कर, दोनों टांग फैला कर अपनी ऊँगली से चूत के दाने को सहलाने लगी, और कभी कभी ऊँगली को चूत के अन्दर बाहर करने लगी। राहुल से भी नहीं रहा गया। अपनी माँ को ऊँगली करते देख वोह चित्त हो गया और बेधड़क एक हाथ से अपनी माँ का हाथ उसकी चूत से हटा कर अपने लण्ड खड़े फनफनाते लण्ड पर रखा, और दूसरे हाथ की हथेली को माँ की चूत पर रखा।

दोनों अब समझ गए कि वो एक दूसरे के साथ क्या करना चाहते हैं लेकिन कोई कुछ नहीं बोल रहा था। एक ओर राहुल कमला की गीली चूत के दाने को सहलाने लगा, साथ ही कमला धीरे धीरे राहुल के लण्ड को जड़ से टोपी तक सहला कर उसके लण्ड की लम्बाई और मोटाई का अनुमान लगाने लगी।

हे भगवन, क्या लण्ड दिया तूने मेरे बेटे को, ७ से ८ इंच का लगा उसे। कमला ने सिर्फ़ जमुना लाल जी का ५ इंच के लण्ड का स्वाद लिया था और उसने कभी कल्पना नहीं की थी कि लण्ड इतना लंबा मोटा भी होता है।

राहुल ने सोचा कि अब लोहा गरम हो चुका है और वो घड़ी आ गई है जिसका इंतज़ार था। वो उठा और पजामे को उतार फेंका और नीचे से बिल्कुल नंगा हो कर अपनी माँ की टांगों को बेड के किनारे तक इस तरह खींचा कि उसकी माँ की गांड बेड के किनारे आ गई। इसके जवाब में कमला ने अपनी टांगें जितनी खुल सकती थी खोल कर फैला दी। अब राहुल ने माँ की गरम और रसीली चूत की दरार में अपना सुपाड़ा रख कर हलके से दबाया। उसका लण्ड २ इंच माँ की चूत के अन्दर घुस गया। तब उसने माँ के दोनों मांसल चूतड़ के नीचे दोनों हाथ रख एक जोर दार धक्का लगाया। घच की आवाज के साथ राहुल का पूरा लण्ड जड़ तक अपनी माँ की चूत में चला गया, और कमला के मुंह से एक आह निकल पड़ी। अब राहुल ने घच घच अपनी माँ की चूत को चोदना शुरू किया और आनंद से उसकी माँ बड़बड़ा रही थी– चोदो मेरे लाल, मेरे श्रवण कुमार, चोदो आज अपनी चुदासी माँ को ! कई साल से भूखी है तुम्हारी माँ ! आज सारी भूख मिटा दो !
राहुल माँ को घच घच चोदते हुए बोल रहा था- ये ले, और ले माँ। तुम्हारी सालों की चुदाई की कसर अब पूरी हो जायेगी। चोदने के साथ राहुल माँ की चूचियां बेरहमी से मसल रहा था और माँ के मुंह और गले को चूम रहा था। कमला भी अब नीचे से चूतड़ उछाल उछाल कर राहुल के धक्के का जवाब देने लगी। लगता था कि कमरे में भूचाल आ गया हो।

कमला के मुंह से अजब गजब की आवाज निकलने लगी, और एक बार तो उसके मुंह से चीख जैसी निकल पड़ी तो राहुल ने उसका मुंह दबा दिया ताकि होटल वाले ये सब सुन कर कहीं वहां न आ जाएँ। तभी कमला के बदन में बड़ी जोर की सिहरन हुई, और राहुल समझ गया की उसकी माँ अब झड़ने वाली है। उसने कमला के मुंह को तकिये से ढक दिया ताकि वोह चीखे तो उसकी आवाज कम हो जाए, और उसके ५ -७ करारे धक्के लगाते ही उसकी माँ झड़ने लगी। राहुल और कमला दोनों ने एक दूसरे के चूतड पकड़ कर अपने लण्ड और चूत को इस तरह एक दूसरे से दबाया कि लगा कि उनकी हड्डी टूट जायेगी। तभी राहुल के लण्ड से उसके रस की १०-१२ पिचकारी छूटी और कमला की चूत के हर कोने को रसदार कर दिया .राहुल अपनी माँ की चूत में लण्ड डाले हुए उसके ऊपर पड़ा रहा।

कमला को बड़ा आश्चर्य हुआ कि झड़ने के बाद भी राहुल का लण्ड पूरा ढीला नही हुआ। वास्तव में १५ मिनट के बाद उसे लगा कि राहुल का लण्ड उसकी चूत में धीरे धीरे फड़क रहा है और फिर से लोहे की तरह कड़ा होता जा रहा है। कमला भी फिर से चुदाने के लिए तैयार थी, लेकिन राहुल ने बिस्तर से उठ कर बिजली जलाई और अपनी मस्त नंगी माँ का हाथ पकड़ बिस्तर से उठाया और कहा - अभी तो शुरुआत हुई है, अभी देखो रात भर क्या करता हूँ।

वो अपनी माँ को बाथरूम ले गया और साबुन लगा कर उसकी चूत और बगल के बाल को साफ़ कर के चिकना कर दिया और फिर माँ बेटे नंगे बिस्तर पर आए। राहुल ने अपनी माँ को बिस्तर पर चित्त लिटा कर उसकी चिकनी चूत चाटते हुए उसे झाड़ा और फिर अपना लण्ड माँ के मुंह में डाल कर उसे सिखाया कि लण्ड कैसे चूसते हैं।

रात की तीसरी चुदाई में राहुल ने माँ को कुटिया जैसी बना कर पीछे से चोदा। कमला आज तक कभी पीछे से ऐसे नहीं चुदी थी, लेकिन उसे लगा कि ऐसे में लण्ड और गहराई तक जाता है।

राहुल ने माँ को कहा कि कल दिन में वे साइबर कैफे चलेंगे और वहां तरह तरह की चुदाई की फ़िल्म देखेंगे !
दूसरे दिन दोनों माँ बेटे होटल से घूमने निकले तो राहुल ने पूछा- माँ क्या आज भी बस का मजा लेना है?

कमला ने आज स्कर्ट-ब्लाउज पहना था, बिना पैंटी के, उसने कहा- क्यों नहीं ? कुछ घट थोड़े ही जाता है ! और यहाँ हम लोगों को कौन जानता है ? तब उसने राहुल को उस लड़के की बात बताई और कहा कि उसे पता नहीं कि आजकल के पढ़ने वाले भी चुदाई के बारे में सब कुछ जानते हैं।

राहुल ने माँ को चिढ़ाते हुए कहा कि आज वो लड़का मिल जाए तो आप चाहो तो उसे ले आते हैं यहाँ?

कमला ने भी करारा जवाब दिया- मैंने कहा ना, कोई घटने वाली चीज़ तो है नहीं ! क्या फरक पड़ेगा ? कम से कम वो तुम्हारे जैसा मादरचोद तो नहीं कहाएगा !

राहुल को अपनी माँ का इस तरह खुल कर बात करना बड़ा अच्छा लगा। वो दोनों दिन भर बस से दिल्ली घूमे। बस में लोगों ने कमला का बड़ा आनंद लिया। एक हरामी ने तो जब हाथ लगा कर देखा कि कमला कि पैंटी नहीं है तो वो अपनी बीच वाली उंगली को थूक लगा कर कमला की गांड में घुसाने लगा। तब कमला वहाँ से हट कर बस के दूसरी ओर उस आदमी से दूर हो गई।

इस घटना के अलावा आज कमला को बस में अच्छा मजा आया और उसके पहले दिन का डर और उसकी झिझक दूर हो गई। उसे लोगों का उसकी नंगी चूत और चूतड़ को सहलाना अच्छा लगने लगा। आज भी उसकी चूत लोगों ने गीली कर दी थी।

फिर दोपहर के बाद राहुल उसे इन्टरनेट कैफे ले गया और अपनी गोदी में बैठा कर तरह तरह की चुदाई की विडियो दिखा कर माँ की शिक्षा शुरू की और कैफे में ही उसे ऊँगली से १ बार झाड़ा।

शाम को दोनों होटल लौटने के लिए बस पे चढ़े और कमला का भाग्य कि उस बस में वो ही लड़का किनारे की सीट पर बैठा था। राहुल ने कमला को आँख मारी और कल की तरह कमला फिर वहां खड़ी हो गई। कल की तरह ही आज भी लड़के का हाथ कमला की स्कर्ट के अन्दर उसकी मोटी चिकनी जाँघों को सहलाते हुए धीरे धीरे ऊपर की ओर सरकने लगा। कमला ने अपनी टांग अच्छी दूरी पर रखी थी ताकि लड़के को उसकी चूत तक पहुँचने में कोई मुश्किल न हो, और उस लड़के के चेहरे को बड़े प्यार से देख रही थी।

वो लड़का भी बड़ा तेज़ लग रहा था क्योंकि वो उसकी जांघों को इतनी अच्छी तरह सहला रहा था कि कमला की चूत गीली होने लगी। लेकिन जैसे उस लड़के ने अपनी हथेली कमला की चूत पर रखी, उसे ऐसा लगा कि उसे करंट लग गया हो। उसने उम्मीद नहीं की थी, कि कमला ने पैंटी नहीं पहन रखी है।

कमला उसे देख कर थोड़ा मुस्कुराई और फिर वो लड़का सामान्य हो गया और कमला की चूत के दाने को सहलाने लगा और बीच बीच में उसकी चूत की दरार में कभी १ ऊँगली तो कभी ३-३ उंगली डाल कर अन्दर बाहर करता था। कमला को लगा कि वो झड़ जायेगी, लेकिन तब तक उस लड़के का स्टाप आ गया और वो सीट से उठते हुए कमला से बोला- आंटी, मजा आया ?

कमला ने कहा - आया लेकिन पूरा नहीं। मैं होटल में ठहरी हूँ, चलोगे मेरे साथ ?

लड़के ने कहा कि उसकी मम्मी उसका इंतज़ार कर रही होगी, लेकिन वो कल सुबह होटल आ सकता है।

कमला ने उसे होटल का नाम पता दिया और बोली कि वो १० बजे उसका इंतज़ार करेगी।

जब वो लड़का बस से उतर गया तो राहुल अपनी माँ के पास आया और कमला ने उसे अगले दिन की योजना बताई।
राहुल ने कहा- यह बड़ा कीमती मौका है, और वो इसकी विडियो बनाएगा। एक ४० साल की औरत की एक लड़के से चुदाई की विडियो !

होटल पहुँचते ही राहुल ने माँ को बिस्तर पे पटक दिया और उसकी स्कर्ट उठा कर उसकी चूत चाटने लगा। कमला अपने बेटे से चूत चटवाते हुए सिसकियाँ ले रही थी और एक एक कर अपना ब्लाऊज़, ब्रा और स्कर्ट को ऊपर से खींच कर उतार दिया और बिल्कुल नंगी हो गई। राहुल ने भी एक हाथ से अपनी पैंट और अन्डरवीयर उतारा और शर्ट और बनियान निकाली। दोनों माँ बेटे अब पूरे नंगे हो गए थे और राहुल माँ की चूत चाट रहा था। तब कमला ने कहा- राहुल ! आओ जैसे कैफ़े के विडियो में दो औरत मर्द एक दूसरे की चाट रहे थे वैसा ही हम करें !
दोनों माँ बेटे ६९ में होकर एक दूसरे को मज़ा देने लगे और जब वो दोनों झड़े तो कमला राहुल का सारा रस पी गई और राहुल ने भी कमला के झड़ने के बाद अपनी जीभ को उसकी चूत में डाल कर चूत के कोने कोने से उसके नमकीन लसलसे रस को चाट कर साफ़ कर दिया। फ़िर वो दोनों एक दूसरे को जकड़ कर बिस्तर पर लेट गए।

राहुल ने कहा- मैंने कहा था ना कि गाँव की हो तो क्या हुआ, कितनी जल्दी ये सब सीख गई हो।

कमला ने कैफे के विडियो के बारे में कहा कि बाप रे बाप ये अमेरिकन औरतें कैसे ३-३ काले लोगों का इतना बड़ा मोटा लण्ड एक साथ लेती हैं?

राहुल ने कहा- इस में मुश्किल क्या है ? तू भी बड़े मजे से ले सकेगी।

कमला ने कहा- कि बाप रे बाप, मेरी तो फट जायेगी !

राहुल ने कहा- कि कुछ नहीं फटेगा, एक बार शुरू हो जाओगी तो फिर और मजा आने लगेगा, बस शुरू करने की देर है।

कमला ने कहा- चूत और मुँह में लेने की बात तो वो समझती है कि कितना भी बड़ा मोटा लण्ड ले सकती है, लेकिन गांड में ?

राहुल ने कहा- चलो दिखाता हूँ मेरा ही लण्ड डाल कर ! लेकिन पहली बार तुम्हारी गांड मारने के लिए कुछ तैयारी करनी होगी।

राहुल बाथरूम से क्रीम ले कर आया और माँ को चौपाये कुतिया की तरह कर के उसकी गांड के छेद में क्रीम लगाई और अपने लण्ड पर भी।

कमला के चूतड इतने फूले और मांसल थे कि उसकी गांड का छेद काफ़ी अन्दर था। राहुल ने माँ की गांड के छेद पर लण्ड का सुपारा रख कर हलके से दबाया। सुपारा थोड़ा अन्दर गया लेकिन उसके लण्ड की जहाँ चमड़ी शुरू होती थी वहां के आगे नहीं गया।

राहुल ने माँ को कहा कि माँ पहली बार थोड़ा सा दर्द होगा, बस एक बार पूरा सुपारा अन्दर हो जाने की देर है !

राहुल ने फिर से सुपारा कमला की गांड में दबाया तो कमला को ऐसा लगा जैसे कि जहाँ सुपारे का अंत होता है वहां कोई छल्ला है और वो छल्ला अंदर नहीं घुस पा रहा है। राहुल ने ३-४ बार कोशिश की और हर बार पिछली बार से थोड़ा ज्यादा जोर लगाया, लेकिन हर बार छल्ला अन्दर नहीं घुस पा रहा था।

राहुल ने कहा- माँ तुम्हारी गांड बड़ी टाइट है, मुझे काफी जोर लगाना पड़ेगा और हो सकता है कि तुम्हें एकाएक दर्द भी हो। तुम अपनी गांड कसो मत, गांड ढीली रखो। बस एक बार अंदर करने की जरूरत है।

राहुल ने कमला की गांड में अपने सुपारे को रखा और उसके चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ कर ज़ोर देता गया। कमला से जितना हो सका अपनी गांड ढीली रखी, लेकिन फिर सुपारे का छल्ला अन्दर नहीं जा रहा था।

अब राहुल ने और जोर से लण्ड दबाया तो फुप्प की आवाज के साथ छल्ला अंदर चला गया लेकिन कमला को लगा जैसे उसकी गांड में आग लग गई हो। उसे लगा उसकी गांड फट गई हो और उसके मुँह से 'अ आ अन्न्नंह ह्ह्ह, आ अन न्ह्ह्ह, मर गई, फट गई मेरी गांड !..ओ ऊ ऊओई ईईईइ, आ अन न्न्न्ह्छ ।..' की चीख निकल गई।

राहुल का एक चौथाई लण्ड कमला की गांड में था और वो इसी स्थिति में रहा, जरा भी नहीं हिला और माँ को कहा- बस यही सबसे कठिन काम था, बस अपनी गांड ढीली रखो, अब १ -२ मिनट में तुम्हारा दर्द ख़त्म हो जाएगा तब फिर आगे करेंगे।

इस बीच राहुल बड़े स्नेह से माँ के गाल और गले को चूमता रहा और बताया कि जब औरत की चूत में एक लण्ड होता है और तब कोई दूसरा आदमी उसकी गांड मारता है तो औरत को दर्द का एहसास नहीं होता है और तभी पूरा मजा आता है।

राहुल अपना हाथ कमला की चूत पर ले गया और उसके दाने को छेड़ने लगा। अब कमला का दर्द भी ख़त्म हो गया और तब राहुल ने अपने लण्ड को और दबाया तो लण्ड धीरे धीरे अन्दर घुसने लगा और जड़ तक कमला की गांड में पूरा चला गया। कमला की चूत मसलते हुए राहुल ने धीरे धीरे आधा लण्ड बाहर निकाला और फिर धीरे धीरे पूरा अन्दर डाल दिया और माँ से पूछा कि अब दर्द कैसा है।
कमला को गांड मरवाना बड़ा अजीब लग रहा था लेकिन उसने कहा कि अब ठीक है।

राहुल धीरे धीरे अन्दर बाहर करने की गति बढ़ाने लगा और साथ साथ एक हाथ से कमला की चूत और दूसरे हाथ से कमला की चूचियां मसल कर उसे मजा दे रहा था। एक साथ इतने मजे मिलने से कमला जल्दी ही झड़ गई और २ मिनट के बाद राहुल ने भी माँ की कसी गांड में १०-१२ पिचकारी मार कर उसके तीसरे छेद को भी रस से भर दिया और आज दिल्ली में सिर्फ़ तीसरा दिन था। जितनी जल्दी ये सब हुआ उसे देख कर वो बहुत खुश था और आने वाले समय में माँ बेटे की चुदाई के किस्से को और नई उँचाइयों तक ले जाने का इंतज़ार कर रहा था।

अगले दिन १० बजने के कुछ पहले ही कमला होटल के बस स्टाप पर अनिल का इंतज़ार कर रही थी। जब एक बस रुकी तो उसने उससे अनिल को उतरते देखा। कमला आज साड़ी पहन कर आई थी क्योंकि उसमें उसके चूतड़ों की थिरकन बड़ी मस्त लगती थी। वो अनिल को कमरे में ले आई और सामने खड़े होकर पूछा कि अब बोलो कैसे पूरा मजा दोगे?

अनिल कमला से १ इंच छोटा था लेकिन उसने आगे बढ़ कर कमला को जकड़ लिया और अपने पंजे पर उचक कर कमला के होठ को चूम कर धीरे से बोला- आज तेरी चूत चाटूंगा और अपने चिकने लण्ड से चोदूंगा भी।

कमला ने कहा कि जो चाहे करना लेकिन मेरा एक यार है जो मेरी चुदाई की विडियो बनाना चाहता है और तुम मुझे मम्मी कहोगे और मैं तुम्हें बेटा। अगर मंजूर है तो ठीक है, नहीं तो मैं कुछ नहीं करूंगी तुम्हारे साथ।

लड़के ने एक पल के लिए सोचा और फिर कहा- ओके, ठीक है मम्मी !

योजना के मुताबिक, राहुल कमरे के बाहर दरवाजे पर खड़ा था। कमला ने दरवाजा खोल कर राहुल को अन्दर बुलाया। राहुल ने कैमरा निकाला और अनिल और कमला शुरू हो गए।

अनिल ने पहले कमला की चूत चाट कर उसे झाड़ा, फिर कमला ने उसका चिकना लण्ड चूस के उसका निकाला। राहुल ने अलग अलग कोणों से क्लोज़-अप लिए।

इसके बाद अनिल ने कमला को चोदने के लिए लिटाया तो राहुल ने कहा कि दोनों रुक जाओ, तुम दोनों कपड़े पहन लो और अनिल को बोला कि तुम ऐसा करो जैसे कि ये तुम्हारी मम्मी है और तुम जबरदस्ती इसे नंगी कर के इसका बलात्कार कर रहे हो। ये थोड़ा रोकेगी तुम्हें लेकिन अगर तुम्हें इसके कपड़े भी फाड़ने पड़े या धीरे से मारना पीटना भी पड़े तो कर लेना।

इसके बाद अनिल और कमला ने जो विडियो बनाया उसकी कोई मिसाल नहीं। लड़के ने कमला के दोनों हाथों को पीछे से पकड़ कर उसे नंगा करने की कोशिश की, जिसमे उसने कमला को २-३ थप्पड़ भी लगाये, और कमला का पेटीकोट फाड़ दिया। फिर उसने नंगी कमला को कमरे में दौड़ाया। कमला के नंगे दौड़ने का सीन ही सबसे मस्त था क्योंकि उसके मांसल बदन का एक एक अंग थिरकता हुआ दिखा। फिर उसने कमला को चित्त पटक कर थोडी देर चोदा। फिर कमला ने लड़के के ऊपर चढ़ कर उसे चोदा।

बड़ा मस्त विडियो बना। ३ घंटे की चुदाई के बाद राहुल, कमला, और अनिल रेस्तरां में खाना खाने गए और उस लड़के को १०० रूपये देकर धन्यवाद दिया।

इसके बाद के २ दिन राहुल और कमला ने चुदाई और वीसा के इन्तजाम में लगाये। कमला के बदन की जलन भी अब काफ़ी कम हो गई थी, और उसे समझ आया कि उसे इसी तरह की अच्छी चुदाई की जरूरत थी जिसकी कमी से ही जलन हुआ करती थी।

अब बस में लोगों से कमला को डर नहीं लगता था, बल्कि वो अब मजे लेने लगी थी। सातवे दिन कमला अपने बेटे के साथ एअरपोर्ट चली, एक नई दुनिया में कदम रखने के लिए - अमेरिका !

Tuesday, 7 July 2015

दो बहनों की सेक्सी चुदाई

मेरा नाम अमित है. मैं मुंबई में रहता हूँ. मैं आज से एक साल पहले मुंबई आया था. मैने जहा पर रूम किराये पर लिया था वहा एक आंटी भी रहती थी. मेरी आंटी से दोस्ती हूँ गई. आंटी की दो लडकियां थी. एक का नाम सुनैना और एक का नाम शम्मी था. दोनों बहुत सेक्सी थी. एक थोडी मोटी थी जिसका नाम सुनैना था. बड़ी वाली एकदम सेक्सी और स्लिम थी. दोनों चोदने वाली चीजे थी. दोनों दूध की तरह गोरी थी. मैं रात दिन उनकू चोदने के बारे मैं सोचता रहता. कई बार मैं उनकू याद करके नगन करके ख्यालू मैं चोदता रहता था. उनकू याद करके मैं दिन मैं एक बार मुठ जरूर मरता था

एक दिन मेरी किस्मत खुल गई. मैने शम्मी को उसके बॉय फ्रेंड के साथ गार्डन मैं फ्रेंच किस करते देख लिया. मैं वही पर उनका पीछा करते रहा. मैने मोबाइल से उनके फोटो भी ले लिए. शाम को जब वो घर वापिस आ रही थी तू मैने उसको रास्ते मैं रूक लिया. मैने उसे कहा पैदल जा रही हो आओ बाईक पे घर छोड़ दू पहले तो वो मन करती रही पर जोर डालने पर वो मान गई. मैने उसे बिठा लिया. रास्ते मैं मैने पूछा गार्डन मैं क्या कर रही थी. वो घबरा गई और कहने लगी कुछ नही.

मैने कहा ज्यादा बनो मत मेरे पास तुम्हारे फोटो हैं. वो डर गई और मान गई. वो मेरी मिन्नतें करने लगी की घर पर मत बताना. मैने कहा एक शर्त पर नही बताऊंगा अगर तुम मेरे से चुदवाओगी. उसने कहा यह नही हो सकता. मैने कहा तो मैं बता दूंगा. वो मान गई और मुझे अपना मोबाइल नम्बर दिया और कहने लगी कल जहा कहोगे आ जाऊगी.
मैं खुश हो गया. रात भर कल का इंतज़ार करता रहा. सुबह होणे पर मैने अपनी दोस्त से रूम की चाबी ली. मेरा दोस्त सुबह जॉब पर जाता था और रात को घर आता था. मैने शम्मी को फ़ोन करके वहीं बुला लिया. दोपहर को १२ बजे का मैने टाइम रखा. वो कॉलेज जाने की बजाये सीधे मेरे पास आ गई.. मैने उसे रूम मैं बैठाया. सबसे पहले उसे कोल्ड ड्रिंक पिलाया. उसने नीले रंग की जींस और टॉप पहन रखा था. जिसमें वो सेक्स सिम्बोल लग रही थी.

मैं उसे उठा कर बेड पर ले गया उसे वहा लिटा दिया और साथ ख़ुद भी लेट गया. मैने उसको कस कर बाहों मैं ले लिया और पूरे बदन पर किस करने लगा. फिर मैने उसके मखमल जैसे ममे हाथो में लिए और धीरे २ दबाने लगा. वो सिसकिया भरने लगी आआया.... आया.... ह्ह्छ.. .मेरी मस्ती और बढ गई. बाद में मैं उसे समूच करने लगा. मैने उसे गोद मैं बिठाया और स्मोच और गहरा कर दिया. मैं कभी उसके मुँह मैं जीब डालकर उसे कसता कभी वो मेरे मुँह मैं अपनी जीभ डालती और उसे चूसता. १५ मिनट हम यही करते रहे.

वो पूरी तरह गरम हो चुकी थी. मैने कहा चल साली अब तेरे को नग्न करू और तेरे ममे पियू और तेरे को चोदूं. मैने उसे नग्न कर दिया. अब उसके बदन पर काले रंग की ब्रा और पेंटी थी. मैं उसके रूप को देख कर पागल हो गया और पूरे बदन को उसके चूमने लगा. मैं उसके पेट पर चुम्बन चोदता रहा और उसे सिस्क्किया देता रहा. मैने उसके पूरे बदन पर हाथ और मुह फेरता रहा.वोह स्स्स्स.. आःछ.......आआस्स्स्स....करती रही. उसके गोरे बदन पर गले मैं चैन और काली ब्रा और पेंटी उसे गजब रूप दे रही थी.

फिर मैने उसकी पेंटी और ब्रा उतारी. अब वो पूरी तरहे नंगी थी. मैने उसके मम्मों को हाथ मैं भर लिया वो कड़क हो चुके थे. मैने उसके एक ममे को हाथ मैं लिया और दोसरे हाथ से उसके निपल को प्यार से दबाने लगा. वो पागल हो गई और सिसकिया भाते हुए मेरे साथ चिपट गई.
मैने कहा आज तेरे को चोद कर तेरे जुड़वा बच्चे पैदा करूगा. बोल कितनी बच्चे पैदा करेगी. वो कहने लगी प्लीज़ ऐसा मत करना मोहल्ले में मेरी बेइस्ती हो जायेगी. मैं हस पड़ा और कहने लगा फिकर मत कर तुझे प्रेग्नैन्सी पिल खिला दूगा. बाद मैं मैने कहा तेरे बॉय फ्रेंड ने कितनी बार तेरे को चोदा है. उसने कहा कभी नही. मैने कहा क्या २ किया उसने तेरे साथ. उसने उत्तर दिया सिर्फ़ पहला फ्रेंच किस जब तुमने देख लिया.

मैं खुश हो गया की कुवारी फ़ुद्दी मिलेगी आज तो. मैं उसके ममे हाथ मैं लेकर निप्पल चूसने लगा. उसके गोरे म्मो पर काले निप्पल मस्त थे. मैं १५ मिनट मम्मे चूसता रहा और वो सिसकिया भरती रही. वो मेरे अंडरवियर से मेरा लंड टटोल रही थी. मैने अंडरवियर उतार दिया. मेरा लंड बाहर आ गया. वो मेरे लंड से खेलने लगी.

मैने उसे मुँह मैं लेने को कहा. वो मना करती रही. मैने उसके बालो से पकडा और मुँह में लंड घुसा दिया. बाद में वो उसे चूसने लगी अब उसे ७ इंच लंबा और मोटा लंड अच्छा लगा और वो उसे लोलीपोप की तरहे चूसने ली. मैने उसके सर को पकड़ा और मूह में ही वीर्य निकाल दिया. अब वो गुस्सा हो गई पर बाद में मैने कहा ऐसा नही करुंगा तो वो मान गई.फिर में उसके बदन से खेलता रहा और लंड के खडे होने का इंतज़ार करने लगा. लंड १० मिनट बाद दोबारा खड़ा हुआ. अब में उसकी फुदी को चाटने लगा. उसकी फुदी फूल गई तो मैने अपनी लंड को उसके मुँह में दे कर गीला किया, फिर फुदी पर रखा और जोर से झटका मारा और लंड फिसल गया. उसकी फुदी छोटी थी.

मैने दुबारा उसकी फुदी को खोला और लंड रखा और जोर से झटका मारा. आधा लंड अन्दर घुस गया.वो दर्द से तड़फ़ने लगी. कहने लगी मुझे माफ़ कर दो प्लीज़. मैं हंस पड़ा और एक और झटका देकर पूरा लंड अन्दर धकेल दिया. वो रोने लगी और कहने लगी मेरी गलतियां माफ़ कर दो मुझे छोड़ दो. मैं उसके ऊपर लेट गया और उसे समूच करने लगा और ममे चूसने लगा. अब दर्द कम होने लगा था . मैने दोबारा चोदना सुरु किया अब उसे मजा आने लगा. शम्मी भी अब मेरा साथ देने लगी.

कुछ देर बाद वो झड़ गई.में नही झडा. मैं लगातार लगा रहा वो छुटने का यतन कर रही पर में उसे पेलता रहा. में आधे घंटे बाद उसके झड़ने के बाद झड़ा. मैने उस दिन तीन बार अलग २ ऐन्गल से उसको चोदा.

Bhabhi Ne Ghulam Banaya

Mera nam Mohit hain, meri umra 21 years hain, ab main apni real story aapke sath share karna chahata huin, ye kariban 2 saal pahele ki baat hain jab meri umra 19 thi, tab mere bade bhaya ki nayi shadhi hui thi aur woh apne biwi ke sath mumbai shift huve the aur main aur hamare mummy pappa ratkagiry main yane hamare gaav main rahate the, tabhi meri 12 comlete hui thi aur muze aage ke padhaike liye mumbai aana

Tha to bhaiya ne muze apne paas bila liya ab main bhaya aur bhabhi ke sath unke ghar main rehane lag, aur mera collage bhi suru huva tha, mare bhaiya ki umar 26 thi aur woh ek multinational compony main manager the, aur meri bhabhi 23 ki thi aur woh hous wife thi , aur woh mumbai ki rahanewalithi , aur woh ek bade amir gharanese thi, bhaya ne muze ek computrer bhi diya tha jiske upar main net surching karta tha,

Aur muze pahelese hi feet fetish aur femdom video dekhane ka shouk tha, isliye main apne room main baith kar femdom video dekhtatha, ek din main apne room main baith kar video dekh raha tha tabhi mera mobile baza aur main mobile pai baat karte huve balcony main chalagaya tabhi meri bhabhi muze dinner ko bulaneke liye mere room main aai aur unka dhyan mere computer pai gaya jisper femdom video ply ho

Raha tha tabhi bhabhine muze aawaz di aur main room main aa gaya, main bhabhi ko samane dekh kar hairan ho gaya bhabhi mere paas ghusse se dekh rahi thi, badme bhabhi ne mere computer ki browser history chech kar li main vahi pe sir zukae khada tha, badme bhabhi ne muze kaha ki ye sab main tumhare bhaya ko aur mummy daddy ko bataungi, main ghabra gaya ayr bhabhi ke pair pakad kar mafi mangne laga

Aur bhabhi ko kahane laga ki please ye kisiko mat battao tum jo bologi wo main karunga, tabhi bhabhine kaha thik hain abhi dinner karane chlo tumhare bhaiya tumhari raah dekh rahe hain iske bareme hum kal subha baat karenge maga ye mat samazana ke maine tumhe maaf kar diya, main chup chap dinner ko chala gaya, us puri raat muze nind nahi aayi muze ek sharam si mehsus ho rahi thi, dusare din main

Dopher ko college se ghar aaya to bhaiya office chale gaye the aur bhabhi akeli ghar main thi muze dhekhate hi bhabhi muze ghusse se dekhne lagi aur muze apne paas bulya fir muze boli ki main ye sab tumhare bhiya ko nahi batungi magar ek shart hain ki jab tumhare bhaiya ghar main nahi honge tab tumhe mera gulham banke rahena hoga ye sunkar muze shock lag gaya lekin mere paas dusara rasta nahi tha aur main

Bhabhi ki shart man li, bhabhi ne muze fresh hokar apne room main aaneko kaha, main fresh hokar bhabhike room main gaya bhabhi chair pe baithkar novel padha rahi thi, tabhi main room main gaya aur bhabhi ko awaz di bhabhi ne mere paas dekha aur muze apne paas bulaya aur niche floor pe baithne ko kaha main floor pe baith gaya tabhi bhabhi ne apne pair mere paas badhate huve kaha ki chalo mere talve chato main

Ek dum se shock ho gaya tabhi bhabhi chillate huve boli jaisa main kehati hu vaisa karo varna tumhare bhaiya ko sab kuch bol dungi, main turant bhabhi ke talve chatne suru kar diya kariban aadhe ghante talve chatne ke bad bhabhi ne muze kaha ki sham 5:00 baje muze bahar jana hain isliya bahar jo mere sandle pade hain use jakar acchi tarhase chamkao,main jakar bhabhi ke sandle chamkane laga, thodi der bad bhabhi

Tayar hoke bahar aai aur muze sandal unke pairo main pehanwane kaha maine chp-chap bina kuch kahe bhabhi ko sandle pehanwae, bhabhi muskurai aur chali gai, Rat ko bhaya aur bhabhi mere room main aaye main ekdam se dar gaya, tabhi bhaya mere paas aakar bole dekho muze 1 mahine ke liye training ke liya london jana pad raha hain to tum is chuttiyo main ghar mat jao balke yahi apne bhabhi ke sath raho.
e suntehi main dar gaya aur bhahi ke paas dekhane laga bhabhi bhi mere paas dekh kar muskur rahi thi, main bhaya ko ouch aap kab jaoge bhaiya ne kaha kal subhe, Subhe main jaldi utha aur tiyar hokar bhaiya ko bai karne niche aa gaya bhaiya bhi taiyar hokar nikal rahe the, aur thodi der main bhaiya nika gaye main upar apne kamre main ja raha tha tabhi bhabhi ne muze rokha aur puch kaha ja rahe ho maine kaha apne

Kamremain to bhabhi muze boli aaj se tumhare bhaiya aane tak tum yahi niche rahoge kyuke ghulam ka kohi kamara nahi hota ye sunke main hairan ho gaya tabhi bhabhi ne muze unke kamre main aane ko kaha main unke gamre main chala gaya bhabhi ne muze unke laptop ke paas bulaya aur ek video clip play ki jisko dekh ke main hairan Ho gaya kyu ke us clip main mai bhabhi ke sandal chat rahath yaneke bhabhi ne us

Din sandal chatate huve meri video recording kar li thi, maine bhabhi se puch ye sab kya hain to bhabhi boli agar aajse tum main jaise bolti hu vaise nahi karoge to ye clip main tumhare bhaiya ayr sare gha waloko dikha dung, main hairan ho gaya , main ab puri tarha se bhabhi ke jaal main fas gaya tha,

Tabhi bhabhi muze boli abse tum mere gulham hi nahi balke mere palu kutte ho , aur aaj se har waqt tum mare samne ghutnoke bal hi rahoge, aur tabh bhabhi ne ek carry bag nikali aur muze kaha dekho main tumhare liye kuch surprice lai hu , aur bhabhine bag main se dog belt aur chai nikali aur mere gale main pehani aur muze apne sandle chatne ko kaha aur vahase chali gayi,

Thodi der bad wo vapas aai aur muze belt se ghasite huve kitchan main le gayi, aur khud dyning table pe lunch karne ko baithi aur muze uske pairo ke paas bithaya aur pair chatne ko kaha, badmain jaise hi uska lunch huva to mazase puch ke tumbhe bhuk lagi hain maine ha kardi kyuke subhese maine kuch nahi khaya tha , tabhi bhabhi ne mere samne ek bowl rakh diya jisme raat ka bacha huva rice tha aur jaise hi

Main wo khane laga to muze rokte huve kaha ki ye tumhe hat se nahi balke kutte ki tarah mu se khana hoga main jaise hi usme mu dalne laga to muze fhir se rokha aur us bowl main thook diya aur fhir khane ko kaha, maine wo khane se inkar kiya to muze apne sandle se khup pita aur kaha aaj se tumhe yehi khane khane hoga agar khana hain to khao varna bhuke raho fir main man gaya aur woh khana chupchp se khane

Laga khane khne ke bad maine bhabhise pine ke liye pan manga to bhahine ek bown main pani lakar mere samne rakha aur usme apne dona pair rakha diye aur usme do teen bar thuka aur muzase kutteki thara pine ko kaha maine chup chap se wo pi liya,Badme raat ko bhabhi muze chain se khich kar bath room main le gayi, aur bhabhine tooth brush pe tooth pest lagake kudke daat brush karne lagi muze kuch

Samaz nahi aaraha ke ab bhabhi mere sath kya karne wali hain utneme unonhe ek hath se meri naak dabochi dum ghootneke karan maine muh khol diya aur jaise hi maine muh khola bhabhi ne mere muh ke under thook diya muze ekdum ometing hone lagi utneme bhabhi ne kaha khabardar agar ometin ki to wo puri ki puri tumhe chatne lagaungi main chup chap se wo sab nigal gaya aise bhabhi aadhe ghante tak brush karti rahi aur mere muh ke under thook ti rahi

dusre deen suhe me utha to bhabhi kamre me nahi thi , mai aaine ke samane jake mere baal sawarne laga , mere baal tabhi bahut bade the kuke muze baal badhana accha lagta tha, tabhi maine meri nazar aaine se darwaje par gaee waha pe bhabhi khadi thi , main ekdam rukh s gaya, tabhi bhabhi ander aakar boli beta mohit tumhara zada kar time apne baal sawarne main jata hain ,to phir tum meri ghulami kaise karogr isliye ab tum mere sath saloon chaloge aur apne ye lambe khubsurt baal katwaoge, ye sunte hi main hairan huwa aur bhabhi ko baal katwanese inkar kar diya.

Ye sunke meri bhabhi boli thik hain me tumhari video clip tumhare bhaiya ko abhi mail kar deti hu jisme tum nange baith kar mere sandale chhat rahe ho, aur baki ghar walo ko bhi dikhati hu, ye sunte hi main bhabhi se mafi mangne laga, phir bhabhi boli jaldise kapde pahen ke niche aa jao main tumhara car main wait kar rahi hu, phir maine kapde pehen liye aur niche chala gaya aur car main jake baith gaya, feer bhabhi muze ek saloon main le gayee.
Main aur bhabhi sloon ke ander gaya sallon pura khali tha main jakar chair pebaith gya , pheer sallon wale ne muze puccha kaise baal katwane hain utne main bhabhi boli iske baal pure chote kar do ye sunte hi muze rona aa gaya kyuke maine badee mehant se baal badhe the, thodi der main saloon wale ne mere pure baal kat diye, aur bhabhi ko puch itne bas , to bhabhi najdik aai aur meri taraf dekha kar boli nahi aur chote kar do itne chote ke sirf naam ke liye baal dikhne chahiye, phir saloon wala bola to feer madam machine se katu kya usase pure chote ho jaenge, bhabhi boli thik hain kaise bhi kato per chote hone chhiye, main aainese bhahike taraf dekha to bhabhi meri taraf dekhkar muskurarahi thi, thodi der main saloon wale ne mere baal pure chote kar diye , phir hum ghar aa gaye, bhabhi ne muze towel dete huwe nahane ko kaha, maine bhabhi ke paas kapde mange to bhabhi boli uski koi jarurat nahee, kutta kabhi kapade nahee pehnata, jao jaldi nahake mere samane aao muze tumhe kuch surprice dena hain

Main naheke waisa hi nanaga bahar aa gaya bhabhi wahi chair pe baithi thee, muze dekhate hi muskurake bolee chate balo main achha dikhata hain mera kutta, ab se tum har 8 deen baad main tumhare baal katwungee, tumhe baal badhane ka bahu shuk hain naa hub dekhtee hu tum aapna shauk kaise pera karate ho, aur bhabhine muze kutta banane ko kaha, aur mere gale main belt bandh diya aur, chain latka dee,

phir muze kaha tumhare liye ek surprice hain sham ko meri 1 saheli aane wali hain aur maine unko tumhare bare main sab kuch bata diya hain wo dekhana chahati hain ke maine tumhe kaisa apna paltu kutta banaya hain.,

Phir dopehar ko bhabhi muze apne kamre main leke aai aur kaha mohit muze shoping jana hain isliye yum ye mere sandle achi tarahase saf karke rakhna main abhi tyar hoke aati hu, aur main bhabhi ke sandle saaf karne laga , aag muze rona aa raha tha ,kyuke main samaz gaya tha ke femdom video dekhne main aur vaisi zindagi jineme bahut farak hota hain utne main bhabhi a gayi usne jens aur top pahana tha, muze dekh kar bhabhi boli chalo muze sandle pahanao, maine chup chap bhabhi ko sandle pahane.

Phir bhabhi ne muze kaha ke tum main aane tak kya karoge, maine kaha kuch nahi phir bhabhi boli thik hain tumahara liye main ek kaam deti hu , phir bhabhi jake ek rashi leke aai aur mere dono hath mare phit ki taraf bandh diye aur muze gutno pe chalate huve uske room ke toilet main le gaee, aur phir wo kitchen main chali gaee, muze laga wo muze sirf toilet main band karke rakhegee, utne main bhabhi aa gaee uske hath main ek katora tha aur katore main milk aur biskut the bhabhi ne woh sara milk aur biskut toilet ke farsh per bikher diya aur usme do teen bar thooka aur muze kaha ke beta mohit main ane tak ye sara farsh saaf kar do ,

main bhabhi se kaha bhabhi mere hath to bandhe huve hain to phir main kaise saaf karunga, bhabhine kaha maine tumhare hath jan buj kar bandhe hain tumhe ye sara kutte ki taraha chat kar saaf karana hain , aur main aane tak ye saf nahi huwa to phir dekh lo main tumhara kya hashra karti hu me re kutte, itna kaheke bhabhi toilet ka door lock karke chali gaee, main chup chap se sara farsh chatne laga, kariban 1 ghante bad bhabhi aai mene sara farsh chat ke saaf kar diya tha , bhabhi aake boly very good tum to galty se insan ke janam main aye ho tumhe to kutta hona chahiye tha per koi bath nahee main tumhe kutte ki zindagi jina bhali bhati seekha dungee kuke tumhare bhaiya aane main aur bahut der hain .
Phir sham ko bhabhi mere paas aai aur kaha bete mohit thodi der main meri ek saheli aanewali hain to tum tayar ho na kyuke hum dono milke tumhara aaj who haal karne wale hain jo tum ne aaj tak tumhare internate wale video per bhi nahi dekha hoga aaj hum thumhe bataenge ki kutte ki zindagee kya hoti hain, utneme door bell bazi aur bhabhi door kholne ko chali gaee,

thodi der main bhabhi vapas kamreme aayi aur mera belt pakadke khichate huve muze leke hall main leke gayee. waha pe ek 25 sal ki ladki baithi thi uske peharav se who bahut amir aur ghamandi lag rahee thi, utneme bhabhi ne use kaha ki nisha ye dekho mera devar, aur wo mere paas dekhakar hasane lagee, aur kahane lagee such i cant belive this ke tumhare dever ko tumhaneek paltu kutta banake rakha hain utne main bhabhi ne muza=e kaha ki chao jake madam ke sandle chato, aur main bhabhi ke paas dekhane laga, to bhabhi ne muze jor se ek thaphad mara, aur who itna zor ka tha ki muze rona aane laga, phi main cupchap jake bhabhi ke sahelike sandle chatne lage aur who dono baith ke muskurarahi thi, utne main bhabhi ke saheline muaze rukne ko kaha aur main chatna band karke ruk gaya phirbhabhi boli are chatne do use uski yehi aukat hain ,

phir bhabhi ki saheli boly tumhe apne kutte ko barabar use karene nahi aata, sirf sandle chatna uski aukat nahi hain uski sahi aukat main tumhe batati hu, magar ha agar tumhari ijajat ho to , phir bhabhi boly comeon yar tumhe jaise ise trit karna hain waise karo main kuch nahee bolungee, phir bhabhi ke saheline apna daina pair upar uthaya aur apnehee sandle pe thuka aur mere samne pair lakar boli chal chat ke saaf kar ise , main ekdam sa shock ho gaya aur chatne ko inkar kiya , ye dekha kar bhabhi bhadak gayee aur muze marane lagee, utne main bhabhi ki saheki boly are maro mat ruko main, ye sunkar kar bhabhi boly nahee ye har bat ko na kaheta hain ise to me aaj khup pitungee, utne me bhabhi ki saheli boli pitnse kya hoga tum main kaheti hu vaisa karo aur dekho main isase kya kya chatwati hu, phir bhabhi ke sahe line bhabhi ke paas ek rashi mangee ,

bhabhi turant rashi lekar aai phir dono ne milkar mere hath mere pith ke taraf bandh dita, aur muze per philwakar uke samne jz=amin oar bhith diya phir bhabhi ke saheline ne apne pairo se mere dono gotiya dabai muze bahut dard hine laga aur main dard se chillane laga, aur who dono hasane lagee, main dard se chlate huve aha please muze chodo utne main bhabhi ke sahekine kaha to tumhe hum jaise kahete hain waise hi karna hoga main kaha thik hain main waise hi karunga lekin please muze choda, phir bhabhi ke sahe line apna pair mere gotyyoke upar se hataya aur phi se apne sandle ke upar thuka aur kaha chalo chato ishe.

Main bina kuch bole use chatane laga, aur who dono hasane algee, phir bhabhine hasata huve kaha ke chi kitany sharam ki bat hain ke mera devar ladkiyoke sandle ke upar ki thuk chat raha hain aur ye kaheke mere muh per zor se thuk diya aur hasane lagee, phir bhabhi ke saheline apne dono pairose mera land pakada aur use hilane lagee, thodee der main mera land tight ho gaya aur mera sara virya usalke pair pe geer gaya.

Ye dekha kar dono jan hasane lagee, phir bhabhi ke sahekina=e kaha ki chalo ise chato, muze kaise to lagra tha utne main bhabhi ki saheli boly chato nahee to, main chupchap se chatne hi wala tha utne kmain bhabhi ne muze rokha, main khush ho gaya muze laga bhabhi mujse ye nahee chatwayegee, lekin utne main bhabhi ki saheline bhabhise pucha kya huva bhabhi boly rukao deko main kya karti hu, ye kahe ke bhabhi ne jaha per pair pe virya gira tha wahape thuka aur hasane lagee phir bhabhi ki sahe li boly thats grate aur usne bhi usme thuk diya aur pair mere taraf badhate huve muze chatne ko kahha , main chup chap se who chatne lage.

चचेरी बहन मेरे कौमार्य ले ली - Hindi brother sister sex story

हैलो सभी को,

मैं शुरू से ही आ रहा हूँ, हम दिल्ली के लिए ट्रेन से यात्रा कर रहे थे, मैं सुबह उठा और ऊपर से ताजा हो गया और फिर वह मेरे जीवन की सुंदरता के साथ आया और मेरे पीछे बैठ गया और वह मेरी पीठ सहलाने था, मैं बस गया था अवाक् हो उठे। पहले मैं नंगे त्वचा पर वह भाई के प्यार का एक संकेत के रूप में यह कर रहा है सोच रहा है, लेकिन क्यों किया गया? मैं 7 वीं स्वर्ग में था जैसे मैं महसूस कर रहा था कौन परवाह करता है, यह मैं या तो यह विरोध या उससे दूर नहीं ले जा सकता है कि सिर्फ इतना सुखद था पसंद है और मैं था। वह 10 मिनट के लिए तो मेरी माँ अकेले आया था और मैं वहाँ से दूर ले जाया गया था कि।

बाद उसके प्रति मेरी वासना एक यौन आकर्षित तरीके से बढ़ रहा था उस दिन से, मैं उसे हर समय को देख बस में व्यस्त था और उसके शरीर महसूस की किसी भी संभावना से बाहर याद नहीं किया।

अब उसे करने के लिए आ रहा है, वह एक बच्चे की मां थी। हम एक यौन संबंध थे पहले खुशी (उसकी उम्र 46 है) 22 साल के लिए शादी की, मैं उसे यौन जीवन के बारे में ज्यादा पता नहीं था। मैं अपने पति के एक वर्ष से अधिक के लिए उसके साथ यौन संबंध नहीं था कि पता चला। वह अपने पति को धोखा देने के लिए चाहते हैं या कुछ अजनबी के साथ यौन संबंध नहीं था के रूप में वह खुद हस्तमैथुन और संतुष्ट करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

समारोह, मेरे चचेरे भाई भाई में से एक के रूप में मेरे परिवार में शुरू कर दिया है married.Everyone तैयारियों में व्यस्त था हो रही थी और यह मेरे लिए एक छुट्टी थी, इसलिए मैं वहां मौजूद था और मैं के रूप में मोबाइल या सिर्फ उसे घूरते का उपयोग करके अपने समय बीत मैं उसके अधिकांश में पसंद आया दो बातें उसके स्तनों को और अच्छा है कि सुडौल गधा था, मुझे लगता है वह यहां घूम रहा था और जबकि there.She मेरे बगल में खड़े आते हैं और लापरवाही से अपने कॉलेज और अन्य चीजों के बारे में आसपास चैट करने के लिए प्रयोग किया जाता है मेरे मन के साथ उसके undressing व्यस्त था और वह मेरे शरीर पर उसके हाथ को चलाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

वह मेरी कमर पकड़ और मुझे मेरे कंधों के साथ उसके स्तनों को महसूस करने के लिए करीब उसके लिए मुझे खींच जाएगा। वह आते हैं और मैं उसके स्तन महसूस कर सकता था और मैं एक अवसर के रूप में यह प्रयोग किया जाता है और इसलिए मैं एक बेहतर महसूस हो सकता है उसके विरोध करने की कोशिश करेगा ताकि पीछे से मुझे गले लगा होगा। उन्होंने कहा कि मैं उसके बगल में बैठने के लिए जा रहा था, सोफे पर बैठ गया और उसके बाद मुझे लगता है मैं कुछ किराने का सामान पाने के लिए बाहर जाने की जरूरत है कि एक फोन आया।

मैं वापस आ गया है, जब कवर मेरे हाथ से फिसल गया और सभी चीजों के नीचे गिर गया, उसने मुझे और साड़ी के उसके कपड़े में मदद करने के लिए नीचे तुला नीचे गिर गया और मुझे लगता है कि कामुक स्तनों पर एक नज़र है करने के लिए मिला, वह मैं ने देखा कि उसकी की जगहें चोरी और वह उसके चेहरे पर उस मुस्कान थी। मुझे लगता है मैं पकड़ा गया था कि सोचा था और वह मेरी माँ को बताना होगा, तो मैं भी दिन के आराम के लिए उस पर नहीं लग रही थी। फिर कुछ मैं के कारण मुझे दिया काम करने के लिए जल्दी से घर के आसपास चल रहा था, क्या हुआ और मैं फिसल गया और उसे गोद में नीचे गिर गया और वह मुझे पकड़ लिया और उसके हाथ मेरे डिक पर तैनात किया गया था और इस पर एक नज़र है शरमा जबकि मैं घूमा उसके चेहरे, वह मैं उसके मन के माध्यम से जा रहा था, क्या नहीं समझ सकता है, उसके चेहरे पर एक तटस्थ अभिव्यक्ति थी और मैं उसके लिए माफी मांगी है और मैं कर रहा था कि क्या करना जारी रखा।

वह कुछ हद तक दूर हम वर्तमान में कर रहे थे जगह से था, जो मेरे घर पर मेरे साथ किया गया था। मैं हमेशा एकल सवारी के रूप में, मैं एक मोटर साइकिल है और वह एक साड़ी में, मैं अपनी बाइक पर कि वह हो जाएगा आरामदायक सवारी में पूछा गया था ...। और फिर वह वह बाइक पर बैठ गया और मुझे कसकर आयोजित की और उसने पूछा कि अचानक, तुम मेरे स्तनों को अच्छी तरह देख रहा था, 'मैं ठीक हूँ ... ..' की तरह था? और मैं उसके मुँह से आ रही उन शब्दों को सुनकर चौंक गया था। मैं उसके स्तनों का एहसास हो सकता है तो मैं कुछ देर के लिए चुप बैठ गया और फिर मैं गति तोड़ने के एक बहुत कुछ है जो अपने घर के लिए एक और मार्ग ले लिया है, मैं अपनी पूरी करने के लिए अवसर है कि इस्तेमाल किया और सब कुछ किया। मैं पीछे देखने के आईने में देखा और वह शरमा गया था और तब मैंने सोचा कि मैं एक अच्छी लग रही है लेकिन नहीं अपने स्तनों के एक महसूस किया था, ने कहा। एक लंबी सैर के बाद हम मेरे घर पहुंचे थे और वह कुछ समय के लिए आराम कर लिया और ऊपर से ताजा और उसके घर के लिए रवाना हो गए।

मैं बस बहुत ज्यादा उसके साथ मेरे चारों ओर सब समय उन दिनों का आनंद लिया। वह महसूस किया जब भी मैं वह बैठते हैं या मेरे शरीर पर उसके हाथ की बस को छूने के साथ मुझे मेरे साथ खड़े हैं और खुशी के लिए इस्तेमाल में आने के लिए इस्तेमाल किया अकेला था। वह यौन उन्हें जगाना और मैं हमेशा ही उसे करने के लिए अपने कौमार्य खोने का सपना देखा है और मैं उसे करने के लिए अपने कौमार्य की पेशकश करने का अवसर मिल गया है इससे पहले कि यह लंबे समय से नहीं किया गया था जबकि उन्हें प्यार देकर उसे बहुत भाइयों की देखभाल करने के लिए पसंद करती है।

मैं आज तक समझ में नहीं आया एक बात मैं उस उम्र में उस पर कोई यौन इरादा नहीं था, क्योंकि वह मैं एक बच्चा था जब मुझे राखी बांधती करने के लिए प्रयोग किया जाता है। मैं परिपक्व और उसके अवलोकन शुरू किया गया था एक बार वह इसे बंद कर दिया और उसके प्रति अपनी भावनाओं को बढ़ाने के लिए किया जो मुझे करने के लिए काम किया। उसकी बहनों आज तक मुझे एक राखी बांधती है, लेकिन उसे एक ही नहीं कर रही है मुझे कुछ कहा था ...।!

वह हमारे परिवार में सिर्फ सबसे खूबसूरत महिलाओं था। उसकी संरचना और ड्रेसिंग की उसकी शैली वह चलो तो वह दो दिनों के लिए मुझे वहाँ रखा है, वह अत्यंत करने के लिए उसे यौन इच्छाओं को पूरा करने के लिए मुझे उस दिन का इस्तेमाल किया और उसने कहा कि वह पूरी तरह से संतुष्ट था जब तक मुझे छोड़ देना नहीं था, वैसे भी खूबसूरत था और मुझे लगता है मैं हमेशा अपने कौमार्य खोने का सपना देखा है कि महिलाओं के साथ मेरा पहला सेक्स किया था जब मुझे home.That दिन था जाओ।

अब मैं अपने परिवार के साथ अपने घर में खत्म हो गया था जब यह सब हुआ है, सेक्स हिस्सा करने के लिए आ रहा है, हम सभी को उनके घर में एक छोटा सा हो, साथ पार्टी कर रहे थे, अब इस बार भी वह मेरे बगल में बैठ सकते हैं और पता लगाने के लिए आया करते थे मेरे पार्टी सभी अनुपस्थिति की छुट्टी लेने के लिए तैयार हो रहे थे बाद समाप्त हो गया उसके कोमल हाथों से शरीर, लेकिन मुझे लगता है, मैं अपने चचेरे भाई के साथ कुछ समय बिताने के लिए वहां रह रहा था मेरे घर लौटने से पहले कुछ दिनों के लिए रहने का फैसला किया (उसके बच्चे )।

पहले दिन मुझे और मेरे चचेरे भाई 11'0 घड़ी में उठा और उसके पति को पहले से ही, हम दोनों को ताजा कर ली काम के लिए छोड़ दिया था और नाश्ता किया, मेरे चचेरे भाई एक स्नान के लिए गया था और मैं उसके साथ रोमांस करने के लिए रसोई में चला गया , मैं उसके शरीर पर मेरे हाथ चलाने के लिए और उसे titties के साथ खेलने के लिए इस्तेमाल किया और उसके बेटे को घर पर था के रूप में वह एक तरह से मुझे विरोध था, कुछ ज्यादा मैं अभी व्यस्त चिढ़ा और उसके बेटे के आसपास नहीं था जब उसके साथ खेल रहा था पूरे दिन हुआ ।

अगले दिन मैं इसे अगले स्तर तक ले जाने की कोशिश की और उसे और अधिक छेड़ा। मैं जाकर उसे साड़ी खींचने के लिए और उसकी नाभि पर मेरे हाथ चलाने के लिए और उसकी नाभि और बटन छेद चाटना के लिए इस्तेमाल किया और कहा कि वह 'Hmmmmm' ...... .'Mmmmmmmm मामूली moans के बाहर छोड़ दिया 'और फिर मैं उसके स्तन दबाया और एक दौर परिपत्र में उन्हें मालिश गति और वह मेरे डिक पर उसके हाथ मलाई और वह अधिक उत्साहित महसूस किया कि जब भी कसकर पकड़े हुए था। फिर मैंने उसकी पैंटी में मेरा हाथ डाला है और दक्षिणावर्त और विरोधी घड़ी की दिशा में उसे बिल्ली रगड़ रहा था, उसे साँस लेने में ध्वनि बढ़ रहा था और उसकी कराह मिनट से जोर मिनट होता जा रहा था और वह मैं सह सकता है, तो मैं मेरे हाथ से मुकर गया और चला गया और कुछ नहीं की तरह कमरे में कभी हुआ जीने में बैठ गया।

हम कर रहे थे जब उसने कहा कि वह कारण एक अलग ढंग से वृद्धि हुई है एक दूसरे के लिए प्यार करता हूँ, हम दोनों के बीच हाल ही में बातचीत करने के लिए, उसके बेटे को प्यार करता है के रूप में ज्यादा के रूप में मुझे प्यार करते थे, हम एक दूसरे की डालना चोरी और टेबल के नीचे हमारे पैरों के साथ खेलने के लिए इस्तेमाल उसके पति और हमारे पास उसके बेटे के साथ रात के खाने के लिए इसे और अधिक कामुक महसूस किया। मैं उसके साथ था जब मैं भी एक दूसरे बर्बाद नहीं किया है, मैं उसे गर्म शरीर, नाभि और उसके स्तनों को उसके शरीर में सबसे खूबसूरत चीज की प्रशंसा करने के लिए प्रयोग किया जाता है। वह एक साड़ी पहनने के लिए इस्तेमाल किया और कहा कि मुझे उसकी नाभि के एक महान दृष्टि दे दी है, मैं इसे सही hourglass आकार का नहीं था कहना होगा, लेकिन यह अपने आप में एक सौंदर्य था।

मैं हमेशा वह मेरे बगल में खड़ा है और मैं भी वही करना चाहता था मेरी कमर पकड़ करने के लिए प्रयोग किया जाता है, जब भी उसकी नाभि से उसे पकड़ करना चाहता था। लेकिन ऐसा करने के लिए साहस नहीं था। तीन दिनों के बाद मेरे चचेरे भाई कॉलेज था, इसलिए वह सुबह जल्दी छोड़ दिया और उसके पति ने अपने कार्यालय को छोड़ दिया है। हम दोनों मैं ऊपर ताजा घर में हमारे आत्म द्वारा सभी थे, उसने मुझे दूध सेवा की है और हम एक साथ नाश्ता किया।

मैं एक स्नान के लिए गया था और स्नान करने के बाद मुझे लगता है कि मैं अपने तौलिया नहीं मिला है कि एहसास हुआ और मैं तौलिया पूछने के लिए (मैं मैं कपड़े के साथ और भी बिना एक बच्चा था क्योंकि वह मुझे देखा गया है कि पता है) किसी भी कपड़े के बिना नीचे चला गया , वह यह है कि बिना शर्त राज्य में मुझे देख कर चौंक गया था और उसके बाद वह शरमा गया था। वह मेरे पास आए और मुझे गले लगाया और मेरे गाल पर एक चुंबन लगाया और फिर मैं आगे चला गया और होठों पर उसे चूमना शुरू किया, उन होठों वह कैसे चुम्बन करने के लिए जीभ का उपयोग करने के लिए मुझे पता चला है, यह भीतर कुछ सेक्सी स्वाद था। हम 10 मिनट के लिए चूमा और फिर वह वह सिर्फ एक पेशेवर की तरह यह कर रहा था, उसके घुटनों पर तुला हुआ है और मेरे मुर्गा चूसने शुरू कर दिया है और मैं इसे नियंत्रित करने के लिए सक्षम नहीं था और उसके चेहरे पर ejaculated। फिर मैं उसके नग्न छीन लिया और हम दोनों ऊपर चला गया और फिर वह खुद को साफ किया और फिर वह मुझे साफ कर दिया।

मैं उसकी गर्दन को चूमने और वह मेरे सारे शरीर पर उसका हाथ चला रहा था और मैं उसे संतोषजनक के बिना कहीं और दूर भाग रहा था की तरह तो वह मुझे कसकर गले लगाने में व्यस्त था, "मैं उसकी गर्दन चाट शुरू कर दिया है और वह उसे यह अत्यंत का आनंद ले रहा था और वह जैसा था Hmmmmmm ...... ", मुझे और अधिक छेड़ो, यह मेरी कमबख्त भाई मत रोको!

मैं अपने हाथों से उसे titties मालिश और मेरी उंगलियों के साथ उसके निपल्स आयोजित किया है और यह दबाव और उन्हें घुमा रहा था। यह एक स्पंज की तरह बहुत नरम था और वह अपने कार्यों का आनंद ले रहा था और मुझे लगता है वह यह एक बहुत मज़ा आ रहा था और वह एक बहुत कराह रही थी उसके बाएं स्तन चाट और सीधा अन्य और उसके निपल्स के साथ हो गया खेलना शुरू कर दिया, तो मैं में मेरे डिक डाला उसके मुँह उसकी, पूर्व सह बाहर बह रहा था चुप रहो बनाने के लिए और वह यह साफ पाला है और उसके बाद वह कुछ समय के लिए मेरे अंडकोष चाट शुरू कर दिया और फिर मेरे मुर्गा करने के लिए पर स्थानांतरित कर दिया है और वह अत्यंत सावधानी से इसे चाट रहा था और फिर वह इसे ले लिया पूरे और वह मैं सह करने के बारे में था कि मुझे इतना छेड़ा, उसे लग रहा है और हाथों से मुझे चिढ़ा शुरू किया और मैं उसे करने के लिए और वह पसंद था कि .. "इतनी जल्दी" ने कहा, मैं सिर्फ बातों का आनंद करने के लिए शुरू किया गया था और वह इसे ले लिया उसके मुंह में पूरे और मेरे डिक साफ पाला है।

"Hmmmmmmm ...", वह सिर्फ अत्यंत करने के लिए मुझे arousing किया गया था जो उन कामुक आवाज़ बना रही थी

"मुझे लगता है कि मैं सेक्स के लिए जारी रखने से पहले किसी भी एहतियात रखना चाहिए कि उससे पूछा .. ??"

"वह यह मेरी सुरक्षित अवधि है .. कि उत्तर दिया .."

मुझे लगता है मैं पहली बार के लिए एक असली योनि को देख रहा था के रूप में इसे एक बार चूमने का विरोध नहीं कर सकता है। मैं फिर से चूमा। मैं उसके शरीर पर टिप्पणी कर रहा था और उसने ... "AAAAAA" वास्तव में, मुझे लगता है मैं अन्य बातों के शुरू होने से पहले वह तो मैं उसे बिल्ली पर मेरे हाथ चला रहा था, अत्यंत जगाया मिल जाएगा और वह "यह बंद करो" कहा सुनिश्चित बना रही थी की तरह था, तुम कमबख्त योनी और यदि आप ऐसा करने का मतलब था क्या कर रही शुरू करते हैं।

मैं उसे फूल था कि कैसे सुंदर प्रशंसा में व्यस्त था और उसके बाद वह उसके प्रति मुझे खींच लिया और मुझे फिर से चूमा। मैं उसकी योनि पर अपनी जीभ चलना शुरू कर दिया है, मैं इसे होंठ छोड़ दिया और यह और फिर उसे सही होंठ चाट शुरू कर दिया है, और फिर उसकी योनि के अंदर अपनी जीभ डाला और उसकी योनि का पता लगाने के लिए अपनी जीभ का प्रयोग किया गया और दौर परिपत्र गति में उसे चाट रहा था उठा लिया और उसके बाद उसके शरीर की भाषा वह एक संभोग कर रहा था के रूप में बदल रहा था, वह उसकी योनि के लिए मुझे बंद आयोजित किया है और कुछ, यह इस tangy मीठा स्वाद आ रहा था मेरे मुंह में गिर गया, जबकि वह मेरे चेहरे पर यह सब छिड़काव किया ... .. वाह यह सिर्फ भयानक था ।

फिर वह दूर मेरे चेहरे से तरल पाला है और मैं उसकी योनि पर रस दूर पाला है। वह उसके अंदर एक डिक होने से खुद को नियंत्रित नहीं कर सकता है के रूप में वह मुझे बिस्तर पर धक्का दे दिया, वह जल्द से जल्द उसे जरूरत थी। वह, मैं उसके स्तन के बीच मेरे डिक डाला जाता है और वह गति 'इधर-उधर करने के लिए' में मेरे डिक रगड़ शुरू होता है तो मुझे प्रबल करने की कोशिश की और उसे में मेरे डिक डालने की कोशिश की, लेकिन मैं बस उसे जबर्दस्ती और अधिक से अधिक उसे सता रहा था और मैं उसे एक चेहरे दिया इससे पहले कि इस बार मैं कम से कम 10 मिनट के लिए चली है।

तब तो मैं सबसे पहले मैं सिर्फ डाला, एक उंगली उसे छूना शुरू कर दिया और बाहरी पर रगड़ रहा था तो इंटीरियर के लिए पर रवाना हुए और धीरे धीरे 5 मिनट के लिए उसके रोमांस और मुझे लगता है मैं उसकी योनि की खोज और अपने नाखूनों के साथ उसके अंदर poking गया था मेरे दो उंगलियों डाला , मैं retracting और मुझे लगता है वह मैं उसे जी स्पॉट को ढूँढने में व्यस्त था, जल्दी संभोग सुख नहीं होता है कि इतनी धीमी गति से ऐसा किया डालने था, मैं आधे घंटे के लिए उसे उँगलियों और वह संभोग करने के लिए के बारे में था, तो मैं अपनी उंगली से मुकर गया और 'Hmmmmmm,' AAAAAA करने के लिए आप मुझे संतुष्ट जब तक तुम्हें छोड़ मैं नहीं कर रहा हूँ, मुझे मेरे चालाक छोटे भाई भाड़ में जाओ, 'वह जोर से कहा,' मध्य रास्ते तक धीरे-धीरे उसकी योनि में मेरी छड़ी डाला और फिर एक कड़ी जोर दिया था और वह खुशी में moaned सीमा।

यह दोपहर में 3:00 था, वह उसका बेटा एक घंटे के हिसाब से घर होगा कि 'कहा।

क्यों इस बीच उसके बारे में बात की? हमें हम क्या शुरू जारी है, मैं उसके छोटे चुनौतियों देने शुरू कर दिया और साथ ही साथ उसे बहुत जगाया जो उसके निपल्स के साथ खेल रहा था और वह मेरे डिक भर में सभी cummed, मैं अपने छोटे कुतिया, वह के लिए उसकी भावनाओं को पकड़ नहीं सकता है इतना संवेदनशील है कहा 10 मिनटों। फिर मैं उसके मुंह में मेरे डिक डाला जाता है और वह अपने सभी सह का पाला है और फिर मैं मेरी पीठ पर झूठ बोला था और वह मेरी पीठ के नीचे एक तकिया रख दिया और वह मुझे के शीर्ष पर था और उसके छेद में मेरी छड़ी सही नेतृत्व किया और वह व्यस्त चल रहा था ऊपर और नीचे, मैं उसके स्तन के साथ खेल रहा था और उसके बाद वह 'AAAAAA' दर्द में कराह रही थी 69 की स्थिति पर चले गए और इस समय मैं बहुत तेजी से और कठिन चुनौतियों दिया और और आँसू उसकी आँखों के नीचे चल रहे थे और फिर मैं सह करने के बारे में था इसलिए मैं मुकर और कुछ समय के लिए उसके साथ खेला और फिर मैं घुटना टेकना और उसके सिर के नीचे एक तकिया रखा करने के लिए उसे बनाया है और मैं उसे उस पर आराम करने के लिए कहा।

फिर मैंने उसकी ऊंचाई करने के लिए मेरे डिक समायोजित किया और मैं उसके स्तन आयोजित की और, मैं समय देखा था और यह 3:45 था 'मैं जल्दी से संभोग नहीं होता इतना छोटा है और गहरी चुनौतियों देने शुरू कर दिया, तो मैं अपनी गति बढ़ाने शुरू कर दिया है और कठिन उसे दे दिया चुनौतियों और मैं वह अपने गर्म सह के साथ मेरी बिल्ली छेद को भरने पर आ ने कहा, मैं संभोग करने के लिए के बारे में कहा था कि और मैं उसे अंदर यह सब छिड़काव किया और फिर हम दोनों एक स्नान के लिए गया था और हम बाथ टब में एक दूसरे को चूम रहे थे और उसके बाद मैं उसकी योनी चाट शुरू कर दिया और उसे संभोग में मदद की। फिर हम दोनों अपने आप को शुद्ध और फिर वह मुझे कपड़े पहने और मैं उसे भी तैयार हो जाओ में मदद की, वह उसके प्रति मुझे खींच लिया और मेरे होठों पर एक चुंबन लगाया और और तुम होगा तुम एक और दिन के लिए यहाँ रह रहे हैं जैसे मेरे छोटे भाई दिखता कहा मुझे संतुष्ट या मैं तुम्हें जाने नहीं कर रहा हूँ।

फिर हम दोनों नीचे चला गया और मेरे चचेरे भाई आए थे। ज्यादा कुछ भी नहीं है हम दोनों के बीच दिन के आराम के लिए हुआ है। मैं सिर्फ बात कर रहा है और मेरे चचेरे भाई के साथ दिन के आराम के खेल रहा था।

रात में मैं कुछ अश्लील देख रहा था और पिछले लंबे समय से खेल में मेरी मदद कर सकता है, जो अलग-अलग यौन पदों के लिए देख रहे हैं। मैं अपने आश्चर्य करने के लिए इसे मेरी कुतिया था, किसी ने मुझे जगा करने की कोशिश कर रहा था दो घंटे के बाद 1:00 पर सो गया था। वह उसकी बाहों में मुझे आयोजित की और भोजन कक्ष में नीचे मुझे ले गया, उसने मुझे चूमने शुरू कर दिया और मुझे undressing था और मैं कोई समय के भीतर अपने कच्छा में खड़ा था।

फिर मैंने उसे नंगा और उसे पूरी तरह से नंगा कर दिया और उसके बाद वह कुर्सी पर मुझे धक्का दिया और मेरे कच्छा खींच लिया और मेरे डिक चूसने और मेरे अंडकोष चाट शुरू कर दिया है, वह धीरे-धीरे 10 मिनट के लिए तो वह अपने मुंह में मेरे पूरे छड़ी ले लिया और फिर था कि वह बंद मेरे डिक मरोड़ते गया था और तब मैं सब नीचे बह रहा था और उसके स्तनों पर पहुंच गया, जो उसके चेहरे पर मेरे सह छिड़काव किया। तो फिर हम अपने पदों interchanged और मैं उसकी योनि के साथ खेलना शुरू कर दिया और उसे मेरी जीभ डाला और उसे जी स्पॉट के लिए यह खोज शुरू कर दिया और फिर मैं अंदर मेरे हाथ डाला और योनि पर उसे चाट रहा था और वह ...... 'AAAAAA कराह रही थी। ',' Hmmmmm '......

फिर उसने मेरे चेहरे पर उसे सह छिड़काव किया और फिर मैं एक छोटा सा दीं और मैं उसके स्तन चूसने शुरू कर दिया। तो मुझे लगता है कि वह आया था, कुर्सी पर बैठ गया और मैं उसकी योनि में मेरी छड़ी निर्देशित के रूप में मुझ पर बैठ गया। मैं उसके स्तन पकड़ रहा है और मुझे लगता है कि स्थिति में आरोप में आदमी नहीं था के रूप में वह मेरे डिक पर घूम रहा था, जबकि उन्हें आनंद ले रहा था, तो फिर हम क्या मैं उसे उठा लिया और मेज पर उसे रखा अन्य स्थिति पर बंद कर दिया और उसे नीचे झूठ करने के लिए बनाया गया है और उसके पैर उठा और मैं उसे में मेरे डिक डाला जाता है और अधिकतम करने के लिए उसे धक्का और अपने बाएँ हाथ के साथ उसके स्तन के साथ खेल रहा था और उसके बाद वह अपने सारे शरीर में विस्फोट हो गया।

तब मैं एक सही कोण पर मेज के बगल में झूठ बोलने के लिए उसे बनाया है और उसके स्तन मेज और यह देखने के लिए एक दृश्य था उसे नरम moans पर रगड़ रहे थे, जबकि उसके thrusting शुरू कर दिया। मुझे लगता है हम खड़े है इस शैली में, अगले शैली Spooning की कोशिश की और वह यह दृष्टिकोण, लेकिन उन्हें दोनों के लिए साध्य और सुखद है, मैं दृढ़ता से उसके स्तन का आयोजन किया और उस स्थिति तक में उसे आयोजित करने के लिए एक बहुत ही कठिन शैली है, उसके प्रति उसे वापस के चेहरे वह इसके बारे में ऊब गया था।

अब आखिरी बस फर्क वह हमारे चेहरे के रूप में हमारी आधी रात सेक्स, 'साइड बाई साइड' की अंतिम स्थिति, यहाँ यह वही है आता है और हम एक छोटी लेकिन उनकी ऊंचाई के आधार पर मोड़ करने के लिए की जरूरत है और वह उसके पैर पौधों और तुम्हारा के आसपास उसे बिल्ली में अपनी छड़ी गाइड और इस स्थिति को हम दोनों के climaxed और हम एक दूसरे को शुद्ध और एक अच्छी रात की नींद था जब तक हम इस स्थिति में आनंद ले रहे थे, तुम जल्दी से या उसे संभोग नहीं होने देंगे, जब तक कि गहरी चुनौतियों दे।

मैं वजह से रात में क्या हुआ है कि बातें करने के लिए देर सुबह उठा, मैं उठा और ऊपर ताजा हो गया और बाथरूम से बाहर आया और वहां वह मेरे लिए इंतजार कर बिस्तर पर नग्न था। मैं किसी भी समय बर्बाद और केवल अपने मुक्केबाजों के साथ बिस्तर पर कूद गया और हम एक दूसरे को चूम रहे थे और हम दोनों दोनों हद तो तब हम जब तक एक दूसरे के जननांगों को चाट रहे थे, 69 की स्थिति के साथ अपने दिन शुरू नहीं किया था। तब मैं गुदा सेक्स की कोशिश करना चाहता था और उसने कहा नहीं, वह इसे पहले कभी नहीं की कोशिश की है और मुझे लगता है कि हम कहीं शुरू करना है या आप इसे कैसे अनुभव मिल जाएगा ने कहा। फिर मैं उसके गुदा में मेरे डिक डालने की कोशिश की, लेकिन यह भी तंग था, मैं अपनी छड़ी और मुक्त प्रवाह के लिए चिकनाई उसे गधे मिल गया।

फिर ', मैं मिशनरी स्थिति में उसे झूठ कर रही है जबकि फिर से डालने शुरू कर दिया और दो -three धीमी चुनौतियों के बाद, मैं वो दर्द' aaaaaaa 'में चिल्ला रहा था, मुश्किल धक्का दिया और अंदर पूरा चला गया तो यह अंदर पूरी तरह से जाने के लिए भी आसान नहीं था फिर मैं कुत्ते शैली को बंद किया और उसे समायोजित करने के लिए धीमी चुनौतियों दे रहा था और फिर बहुत कठिन चुनौतियों और मुकर दिया aaaaaaa 'और आँसू उसकी आँखों के नीचे चल रहे थे, तो मैं अपनी चुनौतियों धीमा है और उसे गधे को ढीला कर दिया। शैली 'की ओर से पक्ष' 'Spooning' और में हम फिर से गुदा सेक्स होने लगा कुछ बाकी है और इस समय होने के बाद, हम सब दिन गुदा होने का आनंद लिया और मैं पकड़ नहीं पा रहा था और मेरी लोड के साथ उसके गुदा भर दिया।

हम दोनों के पास गया और एक साथ एक स्नान किया था और बाथ टब में मौखिक कुछ, हम खुद को साफ कर दिया गया था और हम प्यार के साथ एक दूसरे को आयोजित किया है और नीचे नग्न संपर्क किया और दोपहर का भोजन मैं चूसने पर रखा उसके स्तनों से कुछ मीठा दूध था जो एक रेगिस्तान से पालन किया था उसके स्तनों से दूध जब तक वहाँ कोई और अधिक था। उसने यह भी कहा कि मैं उसके मुंह में मेरे डिक डाला किसी भी समय बर्बाद किए बिना तो, मुझ से एक मिठाई खिलाया जाना चाहता था और वह इस समय एक अच्छा और मौखिक एक अलग रहा था, मैं बहुत तेजी से एक संभोग सुख मिला है और मेरे सह के साथ उसके मुंह भरा है और वह मेरे डिक साफ पाला है और मुझे कपड़े पहने और मुझे एक भेजने बंद चुंबन दे दिया।

यह तो सिर्फ शुरुआत थी। वह यह है कि वह वर्षों में था सबसे यादगार सेक्स था कि मुझे बताया था। हम फोन पर हमारे संबंध जारी रखा और एक दूसरे के साथ हमारे नग्न तस्वीरें विमर्श किया। उसके बाद हम यौन संबंध के लिए मौका नहीं मिला।